ऑक्रेस्ट्रा में काम करनेवाले बाउंसरों ने की थी बीएमपी जवान की हत्या, दो दर्जन से अधिक लोगों को लिया हिरासत में, तब पकड़ में आए हत्यारे

ऑक्रेस्ट्रा में काम करनेवाले बाउंसरों ने की थी बीएमपी जवान की हत्या, दो दर्जन से अधिक लोगों को लिया हिरासत में, तब पकड़ में आए हत्यारे

GOPALGANJ : बीते 10 अगस्त को जिले के थावे दुर्गा मंदिर की सुरक्षा में तैनात बीएमपी के जवान की हत्या के मामले में पुलिस ने दो बदमाशों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने इस दौरान बताया कि हत्या करनेवाले ऑक्रेस्ट्रा में काम करनेवाले बाउंसर थे।

हत्या की घटना का खुलासा करते हुए एसपी आनंद कुमार ने बताया कि हत्या में शामिल दो बदमाशों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि गिरफ्त में आए बदमाशों में थावे में संचालित ऑर्केस्ट्रा का बाउंसर व पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी जिले के देशबंधु थाने के भतेगिनी हाजरा कॉलोनी वार्ड नंबर दो का मो. फहीम व थावे थाने के शिवस्थान विदेशी टोला गांव के भिखारी यादव का पुत्र अमित कुमार यादव शामिल हैं। 

बीएमपी जवान से हुआ था विवाद

एसपी ने बताया कि करीब डेढ़-दो माह पूर्व ऑर्केस्ट्रा के बाउंसर व जवान के बीच किसी बात को लेकर तू-तू, मैं-मैं हुआ था। बाद में मामला शांत हो गया। लेकिन घटना की रात 10 अगस्त को थावे में स्थित मैरेज हॉल में एक बर्थ-डे पार्टी का आयोजन किया गया था। जहां ऑर्केस्ट्रा देखने के लिए बीएमपी का जवान भी पहुंचा था। वहीं फिर किसी बात को लेकर बाउंसर व जवान के विवाद हो गया। इसके बाद बाउंसर ने अपने दो सहयोगियों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया।पकड़े गए बदमाशों के पास से घटना में प्रयुक्त चाकू, बीएमपी जवान का जूत्ता व बदमाशों का दो मोबाइल भी बरामद किया है। जवान के लूटे गए मोबाइल को बरामद करने के लिए पुलिस की टीम लगातार छापेमारी कर रही है।इसके अलावा हत्या में शामिल एक बदमाश फरार है। जिसकी तलाश में पुलिस की टीम लगातार छापेमारी कर रही है।

दो दर्जन से ज्यादा लोगों को लिया हिरासत में, तब पकड़ में आए हत्यारे

एसपी आनंद कुमार ने बताया कि 10 अगस्त को बीएमपी के जवान की हत्या के बाद सदर एसडीपीओ नरेश पासवान, प्रशिक्षु डीएसपी दीपक कुमार, निशु मल्लिक, सदर इंस्पेक्टर हीरालाल प्रसाद, थावे थानाध्यक्ष किरण शंकर, मांझागढ़ थानाध्यक्ष विशाल आनंद व मीरगंज थानाध्यक्ष छोटन कुमार, सिपाही प्रेम कुमार सिंह व टेक्निकल सेल के प्रवीण कुमार समेत अन्य पुलिस बल की टीम लगातार छापेमारी कर रही थी। छापेमारी के दौरान करीब दो दर्जन से अधिक लोगों को पुलिस ने हिरासत में लेकर पूछताछ की। पूछताछ के क्रम में पुलिस को सुराग मिल गया। इसके बाद हत्या में शामिल दो बदमशों को पुलिस ने दबोच लिया।

बंगाल में भी रहा है आपराधिक इतिहास

बीएमपी के जवान की हत्या के मामले में गिरफ्तार किए गए पश्चिम बंगाल के सिलीगुड़ी जिले के देशबंधु थाने के भतेगिनी हाजरा कॉलोनी वार्ड नंबर दो का मो. फहीम का बंगाल में भी आपराधिक इतिहास रहा है। पुलिस बंगाल पुलिस से संपर्क कर उसके अन्य मामलों के बारे में पता लगा रही है। पुलिस की अब तक की जांच में यह बात सामने आई है कि वह आपराधिक छवि का शख्स है।

Find Us on Facebook

Trending News