पिता को मासूम बेटे के शव को बोरे में ले जाने पर विवश करनेवाले पुलिस वाले किये गये निलम्बित

 पिता को मासूम बेटे के शव को बोरे में ले जाने पर विवश करनेवाले पुलिस वाले  किये गये  निलम्बित

कटिहार... खबर कटिहार से आ रही है जहां बंद बोरा में अपने बेटे के शव को लेकर तीन किलोमीटर तक पैदल दूरी तय करने को मजबूर बाप की कहानी जब सोशल मीडिया पर वायरल हुई तब प्रशासन हरकत में आई और जिसमें दरोगा राजदेव रमन (गोपालपुर थाना) और जमादार नंदलाला चौधरी (कुर्शेला थाना) को शव को अपने संरक्षण में ना लेकर और न ही कोई साधन प्रदान करने के आरोप में दोनों पुलिसकर्मियों को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है.

 उन पर संवेदनहीनता और मानवाधिकार के हनन करने का आरोप लगा है. आप को बता दें जब सोशल मीडिया पर ये विडियो आया तो लोगों का पुलिस से भरोषा उठते हुए दिखा विडियो में बंद बोरा में अपने बेटा के शव को लेकर तीन किलोमीटर तक पैदल दूरी तय करने को मजबूर यह नीरू यादव है, दरअसल भागलपुर जिला के गोपालपुर थाना क्षेत्र के तीनटंगा गांव में नदी पार करने के दौरान नीरु यादव के 13 वर्षीय पुत्र हरिओम यादव नाव से गिर गया था और वह लापता था, इस बाबत गोपालपुर थाना में भी गुमशुदगी का मामला दर्ज कराया गया था लेकिन पिता को खोजबीन के दौरान पता चला कि बेटा का शव बगल के ही कटिहार जिले के कुर्सेला थाना क्षेत्र के खेरिया नदी के तट पर तैर रहा है.

इसी सूचना पर पिता नीरु यादव जब घाट पर पहुंचा तो उसे उनका बेटा का शव बुरा हालत में मिला,सड़ा-गला और जानवर नोच लेने के बावजूद उसके पहने हुए हैं कपड़ा और अन्य शारीरिक अंग के आधार पर पिता ने अपने पुत्र के शव को पहचान लिया.अब आप को बताते है सिस्टम की शरारत भी यहीं से शुरू हुई उस शव को लाने में न तो भागलपुर जिला के गोपालपुर थाना पुलिस और ना ही  कटिहार जिला के कुर्सेला पुलिस कोई संजीदगी दिखाई, ऐसे में एक पिता को अपने कलेजे के टुकड़े को बोरे में बंद कर तीन किलोमीटर तक पैदल चलकर लाना पड़ा, परेशान पिता ने कहा करे तो क्या करें कोई थाना या कोई पुलिस न तो गाड़ी उपलब्ध करवाया और न कोई सहानुभूति दिखाई,अब इस सिस्टम से कितने देर तक गुहार लगाते इसलिए मजबूरी में अपने दिल में पत्थर रखते हुए शव को इसी तरह लेकर आ गए.अगर सोशल मीडिया पर ये विडियो वायरल नहीं होता तो पुलिस का ऐसा बेरहम चेहरा लोगों के सामने नहीं आपाता. 

Find Us on Facebook

Trending News