स्मार्ट प्रीपेड मीटर की शिकायतों को लेकर बीएसपीएचसीएल गंभीर, एमडी ने ईईएसएल के अधिकारियों के साथ की बैठक, दिए कई निर्देश

स्मार्ट प्रीपेड मीटर की शिकायतों को लेकर बीएसपीएचसीएल गंभीर, एमडी ने ईईएसएल के अधिकारियों के साथ की बैठक, दिए कई निर्देश

PATNA : उपभोक्ताओं की स्मार्ट प्रीपेड मीटर की शिकायतों पर संज्ञान लेते हुए बीएसपीएचसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक संजीव हंस ने ईईएसएल के अधिकारियों के साथ बैठक कर गाईडलाइन्स को पालन करने को कड़ा निर्देश दिया है। बैठक में बीएसपीएचसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक संजीव हंस ने ईईएसएल अधिकारियों से उपभोक्ताओं के साथ हो रही छूटपुट परेशानी पर रोष व्यक्त किया। उधर उर्जा मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने भी बीएसपीएचसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक हंस की शिकायतों को गंभीरता से लेते हुए आगामी एक सितंबर को दिल्ली में डिस्कॉम एजेंसियों और ईईएसएल के अधिकारियों की बैठक बुलाई है।


बीएसपीएचसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक संजीव हंस ने ईईएसएल के अधिकारियों से कहा है कि स्मार्ट प्रीपेड मीटर के उपभोक्ताओं को तीन दिन में हर हाल में वेलकम मैसेज मिलनी चाहिए। साथ ही जब उपभोक्ता अपना मीटर रिचार्ज करते हैं तो जो रकम कटती है, वो किस मद में कहां कटी इसका मैसेज उपभोक्ता के मोबाईल पर तुरंत जाना चाहिए। उपभोक्ता किसी भी तरह अपनी कटी हुई रकम को लेकर अंधकार में न रहे तथा  पारदरर्शिता बनी रहे। ऐसा व्यवस्था सुनिश्चित होना चाहिए। ईईएसएल के अधिकारियों ने बीएसपीएचसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक संजीव हंस को जल्दी ही स्मार्ट प्रीपेड मीटर से संबंधित सभी मुद्दों का त्वरित गति से समाधान करने का अश्वासन दिया है।    

हाल ही में बीएसपीएचसीएल के अध्यक्ष सह प्रबंध निदेशक संजीव हंस ने स्मार्ट प्रीपेड मीटर लगाने और उससे होने वाली समस्याओं को दूर करने में हो रही कठिनाई के लिए केंद्र सरकार की एजेंसी ईईएसएल (एनर्जी एफिशियंसी सर्विसेज लि.) और फ्रांस की कंपनी ईडीएफ को पत्र लिखकर मीटर में आ रही परेशानियों को दूर करने का निर्देश दिया था। उन्होंने कहा था कि ऐप पर समय से बैंलस अपडेट नहीं होना, मीटर लगने के 30 दिन बाद भी खराब स्मार्ट मीटरों को बदला नहीं जाना सहित कई शिकायतें बड़ी संख्या में मिल रही हैं। इसके बावजूद उपभोगताओ की शिकायतों के निवारण के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है। फलस्वरूप स्मार्ट मीटर के उपभोगताओ के शिकायतों का निवारण वितरण कंपनियों की सामान्य व्यवस्था के माध्यम से ही करना पड़ रहा है। 

उपभोक्ताओं को रिचार्ज के बाद कटने वाले राशि का विस्तृत विवरण नहीं रहने पर रिचार्ज की राशि का लेखा समझने मे परेशानी थी ओर जिस से कई प्रकार की भ्रांतिया फैल रही थी। बिजली कंपनी ने तीन सौ किस्तों में पुराने बकाया को एडजस्ट करने का प्रवाधान दिया था। लेकिन EDF द्वारा पुराने बकाया को काटने की प्रक्रिया भी अभी स्थिर नहीं की जा सकी है। बिहार बिजली स्मार्ट मीटर एप्प के एरियर (बकाया) मैनेजमेंट की त्रुटि को अविलंब दूर करने और उपभोगताओ को एप्प मे ही बकाया का समायोजन का पूरा लेखा दर्शाये जाने के लिए कहा गया है।

Find Us on Facebook

Trending News