गया में 27-29 जनवरी तक बौद्ध महोत्सव का होगा आयोजन, तैयारियों को लेकर डीएम ने अधिकारियों के साथ की बैठक

गया में 27-29 जनवरी तक बौद्ध महोत्सव का होगा आयोजन, तैयारियों को लेकर डीएम ने अधिकारियों के साथ की बैठक

GAYA : ज़िला पदाधिकारी गया डॉक्टर त्यागराजन एसएम ने बौद्ध महोत्सव 2023 की तैयारी को लेकर समाहरणालय सभाकक्ष में बैठक की गई। उन्होंने बताया कि बौद्ध महोत्सव इस बार 27 जनवरी से प्रारंभ होकर 29 जनवरी तक तीन दिवसीय महोत्सव का आयोजन किया जाएगा। बौद्ध महोत्सव 2023 के सफल आयोजन हेतु 16 कार्यसमिति/ कोषांग का गठन करते हुए वरीय नोडल पदाधिकारी, नोडल पदाधिकारी तथा सदस्यों को नामित करते हुए बौद्ध महोत्सव के सफल आयोजन हेतु सभी आवश्यक तैयारियां करवाने का निर्देश दिए हैं।

16 कार्यसमिति/ कोषांग यथा सांस्कृतिक कार्यक्रम हेतु कलाकारों का चयन कोषांग का दायित्व है कि अंतरराष्ट्रीय/ राष्ट्रीय तथा बिहार के ख्याति प्राप्त कलाकारों का चयन एवं आमंत्रण पत्र भेजना शामिल है। कार्यक्रम स्थल की तैयारी कोषांग का दायित्व है कि पंडाल, मंच निर्माण, रोशनी, ध्वनि, उद्घोषक की व्यवस्था एवं मिनट 2 मिनट कार्यक्रम तैयार करना। आवासन कोषांग का दायित्व है कि कलाकारों, गणमान्य व्यक्तियों के आवासन की व्यवस्था करना। विद्युत एवं प्रकाश व्यवस्था कोषांग का दायित्व है कि संपूर्ण बोधगया के मार्गो, भवनों को एलईडी लाइट से सुसज्जित करना एवं निर्बाध विद्युत आपूर्ति करना तथा खराब स्ट्रीट लाइट की मरम्मत कराना शामिल है। सफाई एवं पेयजल व्यवस्था कोषांग का दायित्व है कि बोधगया संपूर्ण क्षेत्र की साफ-सफाई एवं पेयजल की व्यवस्था को दुरुस्त रखना। स्वास्थ्य व्यवस्था कोषांग का दायित्व है कि विशिष्ट अतिथियों, अतिथियों, कलाकारों, पर्यटकों एवं कार्यक्रम में भाग लेने वाले व्यक्तियों के स्वास्थ्य सेवा उपलब्ध कराना शामिल है।

परिवहन एवं ट्रैफिक व्यवस्था कोषांग का दायित्व है कि बौद्ध महोत्सव कार्यक्रम में आए कलाकारों एवं विशिष्ट अतिथियों के लिए परिवहन एवं ट्रैफिक व्यवस्था सुगमता रखना। आमंत्रण कार्ड, ब्रोशर, स्मारिका कोषांग का दायित्व है कि आमंत्रण कार्ड, ब्रॉसर, स्मारिका का प्रारूप तैयार करना, मुद्रण एवं वितरण कराना शामिल है। विधि व्यवस्था, सुरक्षा व्यवस्था कोषांग का दायित्व है कि बौद्ध महोत्सव के अवसर पर श्रद्धालुओं, पर्यटकों एवं विशिष्ट अतिथियों के लिए अलग-अलग दीर्घा बनाकर बैठने की व्यवस्था कराना तथा कार्यक्रम स्थल की समुचित विधि व्यवस्था सुरक्षा व्यवस्था संधारित करना। विभागीय प्रदर्शनी, फूड स्टॉल, महिला महोत्सव कोषांग का दायित्व है कि कालचक्र मैदान में विभिन्न विभागों का प्रदर्शनी, फूड स्टॉल लगाना एवं महिला महोत्सव का आयोजन सफलतापूर्वक करना शामिल है।

प्रचार प्रसार एवं तोरण द्वार कोषांग का दायित्व है कि टीवी, रेडियो एवं हार्डिंग के माध्यम प्रचार प्रसार तथा दो मुहान के निकट संबोधि द्वार का लाइट आदि से सुसज्जित कराना बोधगया के विभिन्न स्थलों पर पर्याप्त साइनएज लगाना शामिल है। पहचान पत्र, भीभीआईपी पास, वाहन पास कोषांग का दायित्व है कि वाहन पास, कलाकारों, अतिथियों के लिए पहचान पत्र गंभीरतापूर्वक उपलब्ध करावे। सेमिनार, सर्व धर्म सभा, पदयात्रा कोषांग का दायित्व है कि देश विदेश के विद्वानों को आमंत्रित कर सेमिनार, सर्व धर्म सभा, पदयात्रा जो डुंगेश्वरी से महाबोधि मंदिर तक आयोजन होता है, उसके लिए पूरी तैयारियां कर ले। इसके उपरांत आपदा प्रबंधन कोषांग तथा नियंत्रण कक्ष कोषांग का दायित्व है कि कार्यक्रम स्थल पर 24 * 7 घंटा नियंत्रण कक्ष की स्थापना करते हुए विभिन्न आने वाले कॉल को फॉलो करते रहें।

जिला पदाधिकारी ने कोषांग के तमाम पदाधिकारियों को निर्देश दिया है कि अपने कोषांग के सदस्यों के साथ बैठक कर बौद्ध महोत्सव 2023 के अवसर पर आवंटित कार्यों का वर्क प्लान तैयार कर कार्य कराना सुनिश्चित करें। बैठक में नगर आयुक्त गया नगर निगम, सचिव बीटीएमसी, सहायक समाहर्ता, अपर समाहर्ता, अपर समाहर्ता लोक शिकायत सहित सभी कोषांग के पदाधिकारी गण उपस्थित थे।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News