बालू के अवैध उत्खनन में वर्चस्व को लेकर दो गुटों में चली गोलियां, पुलिस ने कहा हमारे इलाके की घटना नहीं

बालू के अवैध उत्खनन में वर्चस्व को लेकर दो गुटों में चली गोलियां,  पुलिस ने कहा हमारे इलाके की घटना नहीं

ARA/PATNA : बिहार में बालू का कारोबार सबसे ज्यादा मुनाफा देनेवाला धंधा है। जिसमें पिछले कुछ सालों से वर्चस्व की लड़ाई तेज हो गई है। इस लड़ाई में अक्सर मारपीट और गोलीबारी की घटनाएं सामने आती है। बीते गुरुवार को भी कोईलवर थाना और बिहटा थाना के सीमावर्ती इलाकों में संचालित बालू खदानों से गोलीबारी की घटना सामने आई है। हालांकि कोईलवर पुलिस का कहना है कि गोलीबारी की घटना उनके थाना क्षेत्र की नहीं है। 

जानकारी के अनुसार बिहटा थाना क्षेत्र के मोदही गांव के कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा फायरिंग की घटना को अंजाम दिया गया है। जिसे लेकर सुरौंधा टापू पर दहशत का माहौल है। इस मामले को लेकर कोईलवर थाना के थानाध्यक्ष कुंवर गुप्ता ने बताया कि कोईलवर थाना क्षेत्र के सुरौंधा टापू पर कोई भी फायरिंग की घटना नहीं हुई है। बताया गया कि बिहटा थाना क्षेत्र में गोलीबारी हुई है। हालांकि बिहटा पुलिस की तरफ से भी इसकी पुष्टि नहीं की गई है।

वर्चस्व की लड़ाई तेज

बताया गया कि कोईलवर के सुरौंधा टापू, बिहटा के आमनाबाद, मनेर के सुरमरवा के दियरा इलाके में बालू का अवैध कारोबार पर तस्कर अपना वर्चस्व बनाने में जुट गये है। जहां नदी के रास्ते राेजाना सैकड़ाें नाव बालू का उत्खनन व प्रेषण कर जा रहे है। वहींबालू के अवैध कटाई से सरकार को प्रतिदिन लाखाें रुपये की राजस्व की क्षति हो रही है। 

पुलिस की कार्रवाई का असर नहीं 

छापेमारी टीम के लौटते ही फिर से धंधेबाज अवैध उत्खनन में लग जाते हैं। मालूम हो कि सुरौंधा टापू के लोग अपने जमीन के सामने बिहार सरकार की जमीन से अवैध उत्खनन करवा रहे है। जिसे लेकर कुछ दिन पूर्व ही खनन निरीक्षक द्वारा 11 लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराते हुये, नामजद आरोपियों पर 27 लाख रुपए का जुर्माना भी लगा है। लेकिन इसके बाद भी इस पर काबू नहीं पाया जा सका है।


Find Us on Facebook

Trending News