साल 2024 तक पुल के जरिए जुड़ेंगे बिहार-झारखंड, कटिहार से साहिबगंज के बीच जारी है निर्माण, 1900 करोड़ की लागत से पूरी होगी योजना

साल 2024 तक पुल के जरिए जुड़ेंगे बिहार-झारखंड, कटिहार से साहिबगंज के बीच जारी है निर्माण, 1900 करोड़ की लागत से पूरी होगी योजना

KATIHAR: इस बात में कोई दो राय नहीं है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के 15 सालों के कार्यकाल में बिहार राज्य ने काफी तरक्की की है। लगातार बन रहे ओवरब्रिज, रेल पुल सहित मजबूत सड़कें इस बात की खुद गवाही देती है। सीएम का सपना है कि राज्य के किसी भी जिले से बिहार पहुंचने में 5 घंटे से ज्यादा का वक्त ना लगे, इसको लेकर भी लगातार सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है।

यह सभी बातें कटिहार में उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने कही। इसके आगे उन्होनें बताया कि कटिहार के मनिहारी गंगा घाट से झारखंड के साहिबगंज तक गंगा नदी पर पुल बन रहा है। इसके साल 2024 तक पूरा हो जाने की उम्मीद है। बहुप्रतिक्षित पुल बन जाने से बिहार-झारखंड के रिश्तो में नई मिठास आएगी। दरअसल कटिहार का यह इलाका झारखंड साहिबगंज और संथाल परगना का बेहद नजदीक रहा है। आज भी इस क्षेत्र के बड़ी आबादी झारखंड साहिबगंज के और संथाल परगना से ताल्लुक रखते हैं। अब ये पुल बनने से रिश्तो में नई उम्मीद जगी है। स्थानीय लोगों में भी पुल बनने को लेकर इलाके में खुशी के साथ उन्नति की बात कह रहे हैं। साथ ही जल्द इस पुल के साथ रेल पुल का भी उम्मीद जता रहे हैं।

इस बारे में बिहार के उप-मुख्यमंत्री सह कटिहार विधायक तार किशोर प्रसाद ने कहा कि केंद्र के मोदी सरकार द्वारा दिए गए दो राज्य के लिए यह बड़ी सौगात है। गंगा नदी पर पुल बन जाने से आपसी रिश्तो के साथ साथ व्यापारिक रिश्ते में भी वृद्धि होगी। फिलहाल इस पुल पर का काम जारी है। गौरतलब है कि साहिबगंज मनिहारी गंगा पुल में कुल 42 पिलर रहेंगे, जिस पर फोरलेन सड़क पुल का निर्माण होगा। गंगा नदी के ऊपर छह किलोमीटर लंबे सड़क पुल का 1900 करोड़ की लागत से निर्माण कार्य चल रहा है। यह देश का तीसरा सबसे बड़ा पुल होगा। इस पुल और NH की कुल लम्बाई 22 किलोमीटर होना तय हुआ है। जबकि गंगा नदी पर 6 किलोमीटर और दोनों तरफ से एप्रोच रोड के साथ 16 किलोमीटर यानी पुल के साथ सड़क की कुल लंबाई लगभग 22 किलोमीटर का होना तय है। 

Find Us on Facebook

Trending News