बिहार की राजधानी में साइकिल चलाने पर दर्ज हुआ मामला, कांग्रेस ने सरकार से पूछा - यह अपराध कैसे

बिहार की राजधानी में साइकिल चलाने पर दर्ज हुआ मामला, कांग्रेस ने सरकार से पूछा - यह अपराध कैसे

PATNA : गांधी मैदान थाना में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद कांग्रेस नेता पूछ रहे हैं कि साइकल चलना क्या अपराध है। यह सवाल कांग्रेस नेताओं ने राज्य सरकार से पूछा है। दरअसल, बीते शनिवार को प्रदेश कांग्रेस ने मंहगाई को लेकर राजधानी में साइकिल मार्च निकाला था। लेकिन मंहगाई के खिलाफ साइकिल मार्च अब कांग्रेसी नेताओं के लिए मंहगा पड़ गया है।  पटना की सड़कों पर उनके साइकिल शो के बाद पुलिस ने पांच नेताओं के खिलाफ नामजद और 100 अज्ञात लोगों पर प्राथमिकी दर्ज कर ली है। 

अब गांधी मैदान थाना में प्राथमिकी दर्ज होने के बाद कांग्रेस नेता पूछ रहे हैं कि पटना में साइकिल चलाना कब से गैरकानूनी हो गया, वह भी गैर प्रतिबंधित क्षेत्र में। कांग्रेस के विधान पार्षद प्रेमचंद मिश्रा ने इसको लेकर एक ट्वीट भी किया है। इस मामले में प्रेमचंद मिश्रा के अलावे मदन मोहन झा, अजीत शर्मा और निखिल कुमार को नामजद आरोपित बनाया गया है।

17 जुलाई को महंगाई के विरोध में निकाला था साइकिल जुलूस

कांग्रेस नेताओं ने  महंगाई के विरोध में साइकिल जुलूस निकाला था। इस दौरान पेट्रोल और डीजल की बढ़ी कीमतों के खिलाफ विरोध प्रदर्शित करने के लिए कांग्रेसियों ने पटना की सड़कों पर साइकिल चलाई। प्रशासन का कहना है कि उन्‍हें साइकिल जुलूस के लिए अनुमति नहीं दी गई थी। प्रदर्शन के दौरान कांग्रेस नेताओं ने बार-बार मना करने पर भी साइकिल जुलूस को जारी रखा। मना करने के बाद कांग्रेस नेता गांधी मैदान में प्रवेश कर गए।

Find Us on Facebook

Trending News