लालू के करीबियों के 24 ठिकानों पर हो रही है CBI छापेमारी, जानिए क्या है पूरा मामला और कौन लोग हैं निशाने पर

लालू के करीबियों के 24 ठिकानों पर हो रही है CBI छापेमारी, जानिए क्या है पूरा मामला और कौन लोग हैं निशाने पर

पटना. सीबीआई सहित विभिन्न केंद्रीय जांच एजेंसियों ने बुधवार सुबह पटना सहित बिहार के विभिन्न शहरों में 24 जगहों पर लालू यादव से जुड़े करीबियों के ठिकानों पर छापेमारी की है. जिन राजद नेताओं के यहां छापेमारी हुई है उसमें राज्यसभा सांसद अशफाक करीम, सांसद फैयाज अहमद, एमएलसी सुनील सिंह, राजद नेता सुबोध राय, पूर्व विधायक अबू दोजाना, सुभाष यादव, नागमणि यादव के नाम सामने आए हैं. इसमें 2 राज्यसभा सांसद और एक एमएलसी हैं जबकि शेष राजद के नेता हैं जो लालू के बेहद करीबी हैं. कहा जा रहा है कि लालू यादव के रेल मंत्री रहते हुए जो नौकरी के बदले जमीन घोटाला हुआ उसी को लेकर यह छापेमारी की गई है. 

भाजपा के आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने भी छापेमारी के बाद एक ट्विट कर कहा, राजद, जिसके प्रमुख को भ्रष्टाचार के कई मामलों में दोषी ठहराया गया है, वे जांच एजेंसियों के काम पर आरोप नहीं लगा सकते। 3 महीने पहले लालू प्रसाद और उनके परिवार (पत्नी और 2 बेटियों) के खिलाफ 'नौकरियों के लिए जमीन' का मामला दर्ज किया गया था। लालू के सहयोगी भोला यादव को पिछले महीने गिरफ्तार किया गया था। जैसा करोगे-वैसा भरोगे. 

उनके इस ट्विट के बाद माना जा रहा है कि भोला यादव की गिरफ्तारी के बाद सीबीआई को कुछ पुख्ता जानकरी मिली है जिसके बाद सीबीआई ने बुधवार सुबह एक साथ 24 जगहों पर छापेमारी की है. नौकरी के बदले जमीन लेने के मामले में पहले से ही लालू यादव और उनके परिवार के सदस्य सीबीआई के निशाने पर हैं. उनके कई ठिकानों पर पहले भी छापेमारी हुई है. अब इसी मामले में लालू के तमाम करीबियों को सीबीआई ने निशाने पर लिया है और सबके ठिकानों पर छापेमारी की है. 


जिन लोगों के यहां छापेमारी हुई है उसमें राज्यसभा सांसद अशफाक करीम का कटिहार में अल-करीम विश्वविद्यालय है. वहीं मधुबनी में पैदा हुए डॉक्टर फैयाज अहमद केशोपुर में मधुबनी मेडिकल कॉलेज के नाम से मेडिकल कॉलेज चलाते हैं. इसके अलावा वो कई स्कूल,बीएड कॉलेज समेत कई शिक्षण संस्थान चलाते हैं. एमएलसी सुनील सिंह वर्ष 2003 से बिस्कोमान के अध्यक्ष हैं और लालू यादव के करीबी होने के साथ ही राजद के कोषाध्यक्ष का भी पद संभालते हैं. राजद नेता सुबोध राय वैशाली से आते हैं और पूर्व में विधान मंडल के सदस्य रह चुके हैं. वे बड़े व्यापारी भी माने जाते हैं. पूर्व विधायक अबू दोजाना भी बिल्डर हैं. वहीं सुभाष यादव भी रेत कारोबार से जुड़े व्यापारी हैं और लालू यादव के परिवार से काफी लम्बे समय से जुड़े हैं. कहा जाता है कि वह ब्रॉडसन कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड नाम की कंपनी चलाते हैं. उन्हें लेकर यहां तक कहा जाता है कि लालू की रैलियों और कार्यक्रमों के खर्चों का ब्योरा भी सुभाष की डायरी में ही दर्ज होता था. सामान्य दिनों में भी लालू की पार्टी से संबंधित धन की जरूरतें सुभाष पूरी करते रहे हैं.


Find Us on Facebook

Trending News