बड़ा खुलासाः बाढ़ग्रस्त इलाकों के दौरे पर बिहार आई केंद्रीय टीम से किसी विधायक-सांसद ने नहीं की थी मुलाकात..6 अक्टूवर को वापस लौटी है टीम

बड़ा खुलासाः बाढ़ग्रस्त इलाकों के दौरे पर बिहार आई केंद्रीय टीम से किसी विधायक-सांसद ने नहीं की थी मुलाकात..6 अक्टूवर को वापस लौटी है टीम

पटना : बिहार में बाढ़ और जलजमाव का आकलन करने के लिए केंद्र सरकार ने टीम भेजी थी।केंद्रीय टीम ने राजधानी के जलजमाव वाले इलाके राजेंद्र नगर, बहादुरपुर, दानापुर और कंकड़बाग का दौरा किया था. पटना की स्थिति को देखने के बाद केंद्रीय टीम भागलपुर  गई थी जहां भागलपुर और खगड़िया के बाढ़ग्रस्त इलाकों का जायजा लिया था। बाढ़ग्रस्त इलाकों का दौरा करने के बाद केंद्रीय टीम रविवार शाम पटना पहुंची थी जहां बिहार सरकार के अधिकारियों के साथ बैठक कर वापस लौट गई । गृह मंत्रालय के संयुक्त सचिव जी रमेश कुमार की अध्यक्षता में आयी केंद्रीय टीम में वीरेंद्र सिंह, मुकेश कुमार सिंह, आरपी सिंह, एचआर मीणा एवं लव कुश सिंह सदस्य थे।

जानकारों की माने तो टीम का बिहार दौरा के बाद केन्द्र जल्द ही राशि भेजने की कवायद में जुट भी गई है।लेकिन सबसे आश्चर्य की बात यह रही कि केन्द्रीय टीम के बिहार दौरे के दरम्यान एक भी जनप्रतिनिधियों ने टीम से मुलाकात कर स्थिति के बारे में जानकारी देना मुनासिब नहीं समझा था। दो दिनों के दौरे में टीम में 5 जिला का भ्रमण किया।किन्तु इस पांचों जिला में अपने क्षेत्र की स्थिति और क्षतिपूर्ति के लिए सांसदों-विधायकों ने दिलचस्पी नही दिखाई।किसी जनप्रतिनिधि ने केंद्रीय टीम से मिलकर अपने क्षेत्र की वस्तु स्थिति से अवगत नहीं कराया।

लिहाजा केंद्रीय टीम ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान जो समीक्षा किया उसके अनुरूप अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंपी है। अब केंद्रीय टीम की रिपोर्ट के आधार पर बिहार सरकार को रिलीफ भेजने की तैयारी चल रही है।

आपदा प्रबंधन विभाग ने बताया कि बाढ़ से बिहार के 15 जिलों के 20.76 लाख प्रभावित हुए हैं. 90 प्रखंडों की 533 पंचायतों के कुल 1410 गांव प्रभावित हैं.

Find Us on Facebook

Trending News