चंद्रयान-2 : पूर्व अंतरिक्ष यात्री जेरी लिनेंगर ने कहा- इसरो ने नामुमकिन की तरफ कदम बढ़ाया, इस साहस को सलाम

चंद्रयान-2 : पूर्व अंतरिक्ष यात्री जेरी लिनेंगर ने कहा- इसरो ने नामुमकिन की तरफ कदम बढ़ाया, इस साहस को सलाम

NEWS4NATION DESK : चंद्रयान मिशन 100 प्रतिशत सफल नहीं हो पाया है, लेकिन पूरी दुनिया इस मिशन के लिए इसरो की पूरी टीम को बधाई दे रही है। नासा के पूर्व अंतरिक्ष यात्री जेरी लिनेंगर ने कहा है कि इसरो ने नामुमकिन की तरफ कदम बढ़ाया और उसमें 95 प्रतिशत सफल रहा। इस साहस के लिए इसरो की पूरी टीम को सलाम

लिनेंगर ने शनिवार को कहा कि चंद्रयान-2 मिशन के तहत विक्रम लैंडर की चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग कराने की भारत की ‘साहसिक कोशिश’ से मिला अनुभव भविष्य के मिशन में सहायक होगा। 

एक अंतरिक्ष यात्री और विशेषज्ञ के तौर पर लिनेंगर ने कहा कि चंद्रयान-2 का मिशन बेहद कामयाब रहा। ‘ऑर्बिटर अगले एक साल तक बहुमूल्य जानकारी देना जारी रखेगा। ऑर्बिटर से आ रहे संकेत बता रहे हैं कि सभी प्रणालियां ठीक से काम कर रही हैं।’ उन्होंने इसरो को इस मुश्किल मिशन के लिए बधाई भी दी।

बता दें कि साल 1986 से 2001 तक पृथ्वी की निचली कक्षा में स्थापित रूसी अंतरिक्ष केंद्र मीर में लिनेंगर पांच महीने तक रहे थे। लिनेंगर ने कहा, ‘हमें इससे हताश नहीं होना चाहिए। भारत कुछ ऐसा करने की कोशिश कर रहा है, जो बहुत ही कठिन है। 

उन्होंने कहा कि लैंडर से संपर्क टूटने से पहले सबकुछ योजना के तहत था।’ चंद्रयान-2 का लैंडर विक्रम चंद्रमा की सतह से 400 मीटर की ऊंचाई पर स्थित होवर पॉइंट तक नहीं पहुंच सका। लिनेंगर ने कहा, ‘अगर वह उस बिंदु पर पहुंच जाता और उसके आगे असफल होता तब भी बहुत लाभ होता क्योंकि रडार अल्टीमीटर और लेजर का प्रशिक्षण हो जाता, लेकिन जब आप पीछे मुड़कर बड़ी तस्वीर देखते हैं, तो यह कोशिश निश्चित तौर पर आने वाले अभियानों के लिए लाभदायक होगी।

Find Us on Facebook

Trending News