छुट्टी पर घर आए बीडीओ हुए खूनी संघर्ष के शिकार, गांव के नाली विवाद में हो गई हत्या

छुट्टी पर घर आए बीडीओ हुए खूनी संघर्ष के शिकार, गांव के नाली विवाद में हो गई हत्या

लखनऊ। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में पंचायत चुनाव को लेकर खूनी संघर्ष शुरू हो गया है, जिसका पहला शिकार यूपी प्रशासन का एक बीडीओ हुआ है। जिसकी रविवार  को गोली मारकर हत्या कर दी गई। बताया गया कि जब यह घटना हुई, तब पुलिस की टीम भी वहां मौजूद थी, जिनके सामने प्रधान पक्ष के लोगों ने पुलिस के सामने ही ताबड़तोड़ गोलियां बरसाकर बीडीओ को मौत के घाट उतार दिया। इस हमले में दो अन्य घायल हैं। वहीं मामले में एसएसपी ने एसओ और एक दारोगा को लाइन अटैच कर दिया है।

घटना थाना तितावी क्षेत्र के गांव खेड़ी दूधाधारी की है। रविवार को गांव में नाली के विवाद में प्रधान विनोद की गांव के ही दूसरे पक्ष के साथ कहा सुनी और मारपीट हो गयी। मामले की जानकारी पर मौके पर पुलिस पहुंच गई आरोप है पुलिस के पहुंचने के बाद प्रधान पक्ष और उसके साथियों ने पुलिस के सामने ही दूसरे पक्ष पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी जिसमे एक युवक अर्जुन पुत्र देवेंद्र की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि उसका भाई भी गोली लगने से घायल हो गया।

रविवार की छुट्टी पर आया था घर

अर्जुन ग्राम पंचायत अधिकारी के पद पर सदर ब्लॉक में तैनात था । रविवार की छुट्टी होने की वजह से वह अपने गांव छुट्टी आया था। बताया गया है कि अर्जुन परिवार के साथ घर में बैठा हुआ था तभी ग्राम प्रधान विनोद और ग्राम पंचायत सदस्य ने हथियारों से लैस होकर हमला बोल दिया। झगड़े की सूचना पर तितावी पुलिस भी मौके पर पहुंच गई लेकिन उन्होंने बीडीओ को बचाने की कोशिश नहीं की। जिससे मृतक के परिजनों में आक्रोश है। 

दो पुलिसकर्मी पर कार्रवाई

घटना को अंजाम देकर हत्यारे मौके से फरार हो गए। इस घटना के बाद जिला हॉस्पिटल पहुंचे वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव ने जल्दी ही आरोपियों की गिरफ्तारी का आश्वासन दिया। एसएसपी ने थाना प्रभारी कपिलदेव और चौकी प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया है।

Find Us on Facebook

Trending News