कैमूर गैंगरेप मामले की जाँच करने पहुंची बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम, पीड़िता से की मुलाकात

कैमूर गैंगरेप मामले की जाँच करने पहुंची बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम, पीड़िता से की मुलाकात

KAIMUR : बिहार बाल अधिकार संरक्षण आयोग की टीम आज कैमूर गैंगरेप मामले की जांच करने पहुंची. इस मौके पर टीम पीडिता से मुलाकात की. बताते चलें की इस टीम में आयोग की दो सदस्या उषा देवी और प्रमिला देवी शामिल थी. हालांकि आयोग की टीम ने मीडिया के समक्ष कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया. उन्होंने बताया कि मोहनिया में हुए घटना को लेकर जांच करने के लिए टीम आई हुई है.  रिपोर्ट बनाकर उसे सरकार को सौपेंगी. यह एक बहुत की कनफिडेंशियल रिपोर्ट हैं. इसलिए मीडिया के समक्ष कुछ बोल नहीं सकती हैं. 

बच्ची को न्याय दिलाना आयोग का कर्तव्य हैं. दूसरी तरफ जिला बाल संरक्षण ईकाई के सहायक निदेशक संतोष चौधरी ने बताया कि कुछ दिन पूर्व मोहनिया में बच्ची के साथ गैंग रेप कर वीडियो वायरल किया गया था. जिसकी जांच में पटना से बिहार बाल अधिकार संरक्षण आयोग की 2 सदस्यी टीम आई हुई हैं. टीम जांच कर अपना रिपोर्ट सरकार का सौपेंगी. उन्होंने बताया कि टीम बच्ची के अधिकारों की प्रॉटेक्शन के लिए आई हुई हैं. बच्ची का कॉउंसलिंग भी किया गया हैं. बच्ची कैसे अपने आगे के जीवन को सामान्य तरीके से बिताएगी. इसके लिए कॉउंसलिंग किया गया हैं. बाल संरक्षण ईकाई की कोशिश हैं कि बच्ची को अधिक से अधिक सरकारी लाभ मिल सके. ताकि उसका जीवन सामान्य तरीके से गुजरे. 

बता दें कि 25 नवम्बर की सुबह से जिले में एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा था. वायरल वीडियो में 4 युवक एक लड़की को जान से मारने की धमकी देकर कार में उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म करते हैं. वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने लड़की की पहचान की. पीड़िता के बयान पर 4 लोगों की गिरफ्तारी हुई. साथ ही वारदात में इस्तेमाल हुई कार को भी जब्त किया गया है. पुलिस द्वारा गिरफ्तार अभियुक्तों के लिए कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल कर दिया गया हैं. स्पीडी ट्रायल के तहत सजा दिलाने की बात कही गई हैं.

कैमूर से देवब्रत की रिपोर्ट


Find Us on Facebook

Trending News