चिमनी मालिक की दरिंदगी : मजदूरी मांगने पर मजदूर को भट्ठी में धकेला

चिमनी मालिक की दरिंदगी : मजदूरी मांगने पर मजदूर को भट्ठी में धकेला

SAMASTIPUR  : रोसड़ा शहर के एक मजदूर को यूपी में मजदूरी मांगना महंगा पड़ गया. मजदूरी मांगने पर ईंट भठ्ठा के मालिक ने उसे ईंट भठ्ठा में जिंदा जलाने का प्रयास किया. इस घटना में युवक बुरी तरह से झूलस गया, जिसके बाद वह किसी तरह अपने घर लौटा. पीड़ित के परिजनों और स्थानीय लोगों ने उसे इलाज के लिए अनुमंडलीय अस्पाताल में भर्ती कराया, जहां डॉक्टरों ने उसकी हालत गंभीर देखते हुए समस्तीपुर सदर अस्पताल रेफर कर दिया. आपको बता दें कि रोसड़ा शहर के महादेव मठ निवासी बौएलाल महतों यूपी के बागपत में चिमनी भट्ठे में मजदूरी करता था.

ओवरटाईम के लिए दबाव

घटना के संबंध में पीड़ित मजदूर ने बताया कि जनवरी माह में बेगूसराय निवासी मजदूर ठेकेदार राममिलन राय चिमनी भट्ठा में मजदूरी करने के लिए उसे यूपी ले गया था. यूपी के बागपत जिले के बरौत तहसील के गुड़ाना स्थित एमबीएफ ईंट चिमनी में उसे साढ़े ग्यारह हजार रुपए प्रतिमाह मजदूरी पर ईट भठ्ठा में कोयला डालने के काम पर रखा गया था. काम पर रखने के कुछ दिन बाद ही चिमनी मालिक उसे मुफ्त में ओवरटाइम काम करने के लिए प्रताड़ित करने लगे. मजदूरी का पैसा मांगने पर दोनों भठ्ठा में झोंकने की धमकी देने लगे. तंग आकर जब मैंने घर जाने की बात कही तो दोनों ने जाने देने से साफ मना कर दिया.

जिंदा जलाने का प्रयास

पीड़ित मजदूर ने बताया कि जब बीते 16 जुलाई को चिमनी मालिक से मजदूरी का हिसाब मांगने गया तो चिमनी मालिक बिल्लू वर्मा के कहने पर लेबर ठेकेदार राममिलन राय ने जिंदा जलाने के नीयत से उसे जलती भट्टी में धकेल दिया. गर्म लोहे का ड्रम पकड़कर मैं जान बचाने का प्रयास करने लगा. तब तक कमर से नीचे का पूरा भाग और हाथ झुलस चुका था. 

दूसरे मजदूरों के शोर मचाने पर मजदूर आवास से बहुत सारे मजदूरों ने पहुंच कर मुझे भट्टी से बाहर निकाला. इस बीच चिमनी मालिक और ठेकेदार वहां से भाग गए. साथी मजदूरों ने इलाज के लिए मुझे बरौत स्थित डॉक्टर सुरेश चंद्र शर्मा के पब्लिक हेल्थ क्लीनिक में भर्ती कराया. दस दिनों तक वहां इलाज चला. घटना की खबर पाकर पीड़ित के वहीं रह रहे मौसेरे भाई ने अस्पताल पहुंच कर वापस उसे रोसड़ा घर लाया.

समस्तीपुर से प्रवेश कुमार सोनू की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News