चिराग पासवान मुख्यमंत्री के सबसे बेहतर विकल्प,अब लोजपा-जेडीयू में अंतिम दौर की लड़ाई

चिराग पासवान मुख्यमंत्री के सबसे बेहतर विकल्प,अब लोजपा-जेडीयू में अंतिम दौर की लड़ाई

PATNA:  बिहार विधानसभा चुनाव के पहले सत्ताधारी गठबंधन और विपक्षी गठबंधन में बराबर की आग लगी है। आग से दोनों घर बराबर के प्रभावित हैं।महागठबंधन का एक घटक दल तेजस्वी को नेता मानने से इंकार कर रहा तो एनडीए का घटक दल नीतीश कुमार को नेता मानने से इनकार कर रहा है। इधर लोजपा ने एक बार फिर से कह दिया है कि चिराग पासवान बिहार के मुख्यमंत्री के सबसे बेहतर विकल्प हैं।

लोजपा ने कहा है कि बिहार की जनता 15 साल बनाम 15 साल के सरकारों को देख चुकी है। इस बार वर्ष 2020 के विधानसभा चुनाव में जनता एक बेहतर विकल्प ढूंढ़ रही है। पार्टी के प्रदेश प्रधान महासचिव शाहनवाज अहमद कैफी ने कहा है कि बिहार की जनता अब ऐसे व्यक्ति को अपना मुख्यमंत्री बनाना चाहती है जो एक पुत्र और सेवक की तरह उनकी सेवा कर सके। दिन-रात राज्य की भलाई के लिए समर्पित हो। उन्होंने कहा कि इसके लिए हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान सबसे बेहतर विकल्प हैं, जिनके पास राज्य को विकसित बनाने का पूरा रोडमैप है। 

पार्टी 143 सीट पर लड़े चुनाव

आगे उन्होंने यह भी कहा है कि हमारे हर कार्यकर्ता की इच्छा है कि विधानसभा के चुनाव में लोजपा 143 सीटों पर लड़े। चिराग पासवान राष्ट्रीय राजनीति को छोड़कर प्रदेश की राजनीति में पूरी तरह सक्रिय हों। ताकि बिहार को एक सच्चा और मेहनतकस जनसेवक मिल सके। उन्होंने कहा कि उनकी इच्छा है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राष्ट्रीय राजनीति छोड़कर बिहार की राजनीति में आयें और मेरे विस क्षेत्र बहादुरपुर से चुनाव लड़ें। 


Find Us on Facebook

Trending News