चुनाव आयोग के डंडे से डर गए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ! सोशल मीडिया पर साधी चुप्पी

चुनाव आयोग के डंडे से डर गए राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ! सोशल मीडिया पर साधी चुप्पी

PATNA: चारा घोटाले में जेल में बंद राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव लगातार ट्वीट कर विपक्षी नेताओं पर निशाना साध रहे थे. जेल में बंद रहने के बावजूद वे बीजेपी-जदयू को घेरने का ऐसा कोई भी मौका हाथ से नहीं निकलने देते थे. हर दिन वे ट्वीट के माध्यम से विपक्षी नेताओं पर निशाना साधते थे. लेकिन वे पिछले दस दिनों से पूरी तरह से चुप हो गए हैं. लालू प्रसाद की चुप्पी को लेकर कई मायने निकाले जा रहे हैं. लालू प्रसाद द्वारा लगातार किए जा रहे ट्वीट के बाद चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया था. बिहार के अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने 14 मार्च को कहा था कि लालू प्रसाद द्वारा किए जा रहे ट्वीट पर आयोग की नजर है और इस मामले में आयोग जांच कराएगा.

आयोग के इस बयान के कुछ देर बाद और उसके अगले दिन यानी 15 मार्च की सुबह लालू प्रसाद यादव के ट्वीटर अकाउंट से ट्वीट हुआ. लालू प्रसाद ने 15 मार्च की सुबह 11 बजकर 29 मिनट पर ट्वीट किया जिसमें लिखा था कि वे मुर्दों की बात करते हैं हम मुद्दों की. वे इस एक लाईन के ट्वीट में बिना नाम लिए बीजेपी पर निशाना साधते दिखे थे. लेकिन 15 मार्च के बाद आज 25 मार्च तक लालू प्रसाद ने कोई ट्वीट नहीं किया है. वे ट्वीटर पर लगातार चुप्पी साधे हुए हैं.

बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने भी मांग की थी कि लालू प्रसाद जेल में बंद हैं फिर भी ट्वीटर के माध्यम से लगातार विपक्षी नेताओं पर हमला बोल रहे हैं. चुनाव आयोग को इस मामले पर संज्ञान लेना चाहिए. बिहार के अपर मुख्य निर्वाचन के पदाधिकारी के लालू प्रसाद के ट्वीट पर संज्ञान लेने के बयान के बाद 17 मार्च को रिम्स मे इलाज करा रहे लालू प्रसाद के वार्ड की जांच भी करायी गई थी. राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद की तरफ से लगातार दस दिनों से ट्वीटर पर चुप्पी साधने के बाद अब यह चर्चा तेज हो गयी है कि यह सब चुनाव आयोग के डंडे का असर है. 


Find Us on Facebook

Trending News