CM नीतीश ने लोकसभा चुनाव-प्रचार के दौरान इस हथियार का नहीं किया प्रयोग, बाकी सभी नेताओं ने खूब किया इस्तेमाल पढ़िए पूरी रिपोर्ट...

 CM नीतीश ने लोकसभा चुनाव-प्रचार के दौरान इस हथियार का नहीं किया प्रयोग, बाकी सभी नेताओं ने खूब किया इस्तेमाल पढ़िए पूरी रिपोर्ट...


पटनाः लोकसभा चुनाव 2019 का प्रचार समाप्त हो गया।चुनावी प्रचार मे नेताओं ने वोटरों तक पहुंचने के लिए तरह-तरह के हथकंड़े अपनाए।इस चुनाव में वोटरों के बीच माहौल बनाने या अपने विरोधियों पर हमला बोलने के लिए सोशल मीडिया बड़ा प्लेटफार्म रहा। अधिकांश बड़े नेता चाहे वे पीएम मोदी हों या किसी राज्य से सीएम हों या फिर अन्य स्टार प्रचारक, सभी ने सोशल मीडिया का बखूबी इस्तेमाल किया।

संभवतः बिहार के सीएम और जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार अकेले ऐसे बड़े राजनेता हैं जिन्होंने सोशल मीडिया के प्लेटफार्म पर लोकसभा चुनाव की चर्चा नहीं की।पूरे चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने सोशळ मीडिया से लगभग परहेज किया।उन्होंने सोशल मीडिया की बजाए  अपना पूरा ध्यान जनसभाओं पर केंद्रित रखा। 

नीतीश ने 10 मार्च के बाद ट्वीटर पर विकास या राजनीत पर नहीं की बात

देश में 10 मार्च को लोकसभा चुनाव की घोषणा हुई थी ।घोषणा से पहले सीएम ने अपने ऑफिशियल ट्वीटर अकाउंट से विकास से जुड़ी एक योजना से संबंधित ट्वीट किया था।10 मार्च को आचार संहिता लगने  के बाद भी उन्होंने ट्वीटर अकाउंट से कई ट्वीट किए। लेकिन न तो उन्होंने किसी राजनीतिक पोस्ट किया और न किसी नेता पर टिका-टिप्पणी के लिए प्रयोग किया। 10 मार्च के बाद उनका पहला ट्वीट 17 मार्च को मनोहर पार्रिकर के निधन पर श्रद्धांजलि देने को लेकर था। इसके बाद उन्होंने 21 मार्च को होली की बधाई देने के लिए ट्वीट किया। सीएम नीतीश ने 22 मार्च को बिहार दिवस को लेकर अपने अकाउंट से ट्वीट किया।इस तरह से सीएम नीतीश के अकाउंट से सिर्फ बधाई या शोक संदेश के लिए ट्वीट किए गए।

राजद नेताओं के ट्वीटर अकाउंट से दागे जा रहे थे गोले

जबकि हम बिहार के हीं दूसरे नेताओं की बात करें तो चाहे वे बीजेपी-जेडीयू या राजद की बात करें तो अधिकांश नेता पूरे दिन सोशल मीडिया पर छाए रहते थे। राजद की बात करें तो इस बार तेजस्वी ,तेजप्रताप,पूर्व सीएम राबड़ी देवी और जेल में बंद लालू प्रसाद भी सुबह से लेकर शाम तक कई ट्वीट कर सीधे सीएम नीतीश पर निशाना साधने से नहीं चुकते थे।इस बार के चुनाव प्रचार के दौरान पहली दफा राबड़ी देवी ने करीब-करीब चुनाव प्रचारप से दूरी बनाए हुई थी।सिर्फ अपनी बेटी मीसा के लिए पाटलिपुत्र में चुनाव प्रचार की।लेकिन सोशल मीडिया ट्वीटर पर पहली दफा पूरी तरह से सक्रिय रही।राबड़ी देवी ने पूरे चुनाव प्रचार के दौरान ट्वीटर कर सीधे सीएम नीतीश और पीएम मोदी को निशाना साधते रही.चारा घोटाला मामले में जेल में बंद लालू प्रसाद भी चुनाव प्रचार के दौरान ट्वीटर का खूब इस्तेमाल किया। तेजस्वी यादव तो सुबह से लेकर शाम तक सोळ मीडिया पर छाए रहते थे।

बीजेपी ने भी जमकर किया इस्तेमा

वहीं हाल बीजेपी नेताओं की भी थी। बीजेपी के नेता जमीन प्रचार से कहीं अधिक सोशल मीडिया पर एक्टिव थे।सुशील मोदी से लेकर नित्यानंद राय समेत तमाम नेता सोशल मीडिया के माध्यम से विरोधियों पर हमला बोलने से नहीं चुक रहे थे।

सीएम नीतीश पहले भी सोशल मीडिया पर निकाल चुके हैं भड़ास

आपको बता दें कि सीएम नीतीश सोशल मीडिया को लेकर समय-समय पर अपनी भड़ास निकालते रहते हैं।चुनाव प्रचार के पहले भी वे सोशल मीडिया पर कुछ नेताओं की तरफ से अनाप-सनाप की बयानबाजी पर तंज कसते रहे हैं।  





Find Us on Facebook

Trending News