CM नीतीश का सख्त आदेशः पटना को कंट्रोल करिये पूरा बिहार नियंत्रण में होगा, मुख्यमंत्री ने शराब जांच के लिए 'पुलिस' को दी खुली छूट

CM नीतीश का सख्त आदेशः पटना को कंट्रोल करिये पूरा बिहार नियंत्रण में होगा, मुख्यमंत्री ने शराब जांच के लिए 'पुलिस' को दी खुली छूट

PATNA: नशा मुक्ति दिवस पर पटना में बड़ा कार्यक्रम आयोजित हुआ। राजधानी के ज्ञान भवन में आयोजित कार्यक्रम का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उद्घाटन किया। इस मौके पर डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद,रेणु देवी मंत्री विजय चौधरी समेत कई अन्य मंत्री व अधिकारी मौजूद थे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि हमने 2015 में ही तय कर लिया था शराबबंदी लागू करेंगे। सीएम नीतीश ने शराबबंदी पर सवाल उठाने वालों पर खूब बरसे। उन्होंने अधिकारियों को सख्त अंदाज में कहा कि पटना में शराब पर कंट्रोल करें, पूरा बिहार नियंत्रण में होगा। इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने यह भी साफ कर दिया कि पुलिस सूचना मिलने पर हर जगह जांच को जायेगी। होटल में भी जांच होगी,भले ही वहां शादी की पार्टी क्यों न हो?

सीएम नीतीश ने कहा कि शराबबंदी कानून लागू करने से लोगों में खुशी है। 2017 में हमने आज के दिन 26 नवंबर को नशा मुक्ति दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया। हम तो शुरू से कह रहे,कोई भी काम करियेगा,100 फीसदी लोग उसे स्वीकार नहीं कर सकते। कुछ न कुछ तो गड़बड़ करेगा ही। चंद लोग गड़बड़ी करेगा ही। गड़बड़ करने वाले लोग धीरे-धीरे खत्म होंगे। हमने 9 बार शराबबंदी की समीक्षा की है। इस बार तो जहरीली शराब से और भी ज्यादा मौत हुई है। 2018 में भी जहरीली शराब से मौत हुई थी। तब हमने कई आदेश दिया था और कार्रवाई भी की थी।शराब पीने की वजह से सड़क दुर्घटना होती है। हम विद्यार्थी जीवन से ही यह बात सुनते आये हैं। डब्लूएचओ की रिपोर्ट में भी कहा गया है कि 27 परसेंट सड़क दुर्घटना शराब पीकर गाड़ी चलाने से होती है। शराब पीने से शऱीर में कई गंभीर बीमारी होती है। कोई लागू करे या न करे लेकिन हमने शराबबंदी कानून को लागू कर दिया है।

सीएम नीतीश ने कहा कि हाल ही में हमने बैठक किया था। मीटिंग में हमने पूछा कि अब तक जितनी बार बैठक की उसमें हमने पूछा कि अब तक आपलोगों ने क्या किया...। मीटिंग में निर्णय हो चुका है। कुछ लोग मरे वो कैसे मरे? दारू पीकर मरे। फिर भी कुछ लोग कह रहे जहरीली दारू पीकर मरा। तो क्या दारू पीना चाहिए? कुछ लोग क्या-क्या बोल रहे। बिहार में सर्वसम्मति से शराबबंदी कानून लागू हुआ था। कुछ लोग बोलते हैं, वो भूल जाते हैं क्या...क्या शराब खुलवाना चाहते हैं क्या। जिस समय शराबंबदी लागू किया गया था उस समय वो डिपार्टमेंट किसके पास था...कौन मंत्री था? तब के मंत्री ने हमसे कहा था कि शहरी क्षेत्र वाला क्यों छोड़ दिये? उस समय तो बीजेपी साथ नहीं है फिर भी भाजपा ने समर्थन दिया था। 

बर्दाश्त नहीं करेंगे-CM

सीएम नीतीश ने साफ कहा कि जो अधिकारी भी गड़बड़ करेंगे उन्हें बर्दाश्त नहीं किया जायेगा। जो भी बाएं-दायें करता है उस पर कानून के तहत कार्रवाई करें। सबसे ज्यादा पटना में गड़बड़ होता है। हमने मीटिंग में कह दिया था कि पटना में पकड़िये तो इसका मैसेज सीधा जायेगा। सीएम नीतीश ने साफ कर दिया कि होटल में पुलिस जायेगी नहीं? अगर पुलिस होटल में देखने गई और वहां महिला थी तो उसे नहीं देखा जायेगा?  पुलिस को सूचना मिली तो वो जांच में जायेगीं ही. सीएम ने अफसरों को कहा कि जिस दिन आपलोग पटना को कंट्रोल कर लेंगे पूरा बिहार कंट्रोल में हो जायेगा। उन्होंने कहा कि अखबार में व्यापार कम्युनिटि के लोगों का बयान देखा है। उनलोगों ने कहा है कि बाहर से जो आयेगा उसे शराब मिलनी चाहिए. इस तरह का बयान देने वालों के बयान को देखिए, ऐसे लोगों के मन में कुछ न कुछ बात है। 

Find Us on Facebook

Trending News