CM नीतीश का खुलासाः 'मिश्रा जी' से हमारा काफी पुराना रिश्ता...आपलोगों को नहीं न पता है, जेल से बढ़ा संबंध

CM नीतीश का खुलासाः 'मिश्रा जी' से हमारा काफी पुराना रिश्ता...आपलोगों को नहीं न पता है, जेल से बढ़ा संबंध

PATNA: पटना में आज राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण का पंद्रहवां स्थापना दिवस समारोह आयोजित की गई। अधिवेशन भवन में आयोजित कार्यक्रम का उद्घाटन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने किया। इस मौके पर वित्त मंत्री विजय चौधरी समेत अन्य मंत्री व अधिकारी मौजूद रहे. स्थापना दिवस समारोह में प्राधिकरण के उपाध्यक्ष उदयकांत मिश्रा ने सीएम नीतीश का जमकर गुणगान किया। उपाध्यक्ष ने कहा कि नीतीश कुमार जब केंद्र में कृषि मंत्री थे,तभी से वे आपदा प्रबंधन को लेकर व्यवस्था बनाने का काम शुरू कर दिये थे. बिहार आने के बाद हमारे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आपदा प्रबंधन प्राधिकरण की शुरूआत कर दी. इसके बाद सीएम नीतीश ने जब बोलना शुरू किया तो उन्होंने कहा कि हमारा उदय कांत मिश्रा से काफी पुराना संबंध है. जेल में ही पहली दफे निकटता हुई थी. 

मिश्रा जी से हमारा काफी पुराना रिश्ता 

 कार्यक्रम को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने कहा कि प्राधिकरण के उपाध्यक्ष उदय कांत मिश्रा काफी पुरानी बातें कह रहे थे. मुझसे उनका काफी पुराना रिश्ता है, आपलोगों को नहीं पता है. 1969 में ये हम और कई लोग जेल में थे. पूरे बिहार के जितने इंजीनियरिंग कॉलेज के लोग थे,सभी लोगों ने एक साथ आंदोलन किया था. क्योंकि पहले जितने लोग इंजीनियरिंग पास करते थे, उनको राज्य सरकार से नौकरी मिलती थी. इसके बाद सरकार ने निर्णय लिया कि सभी को नौकरी नहीं मिलेगी. तब 1969 में हम लोगों ने आंदोलन किया था. हम पटना जेल में थे, यह तो भागलपुर जेल में थे. बिहार के सभी कॉलेज के छात्र आंदोलन में थे.सब लोगों ने पटना में गिरफ्तारी दी थी. जब हम जेल में थे तभी इनसे परिचय हुआ था.

हमने आपदा प्रादिकरण बनाया और अनिल सिन्हा को पहला उपाध्यक्ष  

नीतीश कुमार ने कहा कि हमने राज्य आपदा प्राधिकरण बनाया। अनिल कुमार सिन्हा को प्राधिकरण का पहला उपाध्यक्ष बनाए थे. वर्तमान उपाध्यक्ष उदयकांत मिश्रा जी खाली हमारी बात बोल रहे थे. जरा अनिल सिन्हा जी से पूछिए.केंद्र में जिस मंत्रालय के हम मंत्री थे, उसी मंत्रालय में अनिल सिन्हा भी थे. आपदा को लेकर जितनी बात हुई थी, सारी बात अनिल सिन्हा ने अध्ययन करके फाइल तैयार की थी. केंद्र सरकार में मेरे कार्यकाल में आपदा प्रबंधन को लेकर सबसे अधिक मेहनत यही किये थे। अनिल सिन्हा बिहार के ही रहने वाले हैं. पहले कृषि में आपदा प्रबंधन नहीं था. 


पूर्व उपाध्यक्ष अनिल सिन्हा फिर से बिहार में होंगे सेट 

नीतीश कुमार ने कहा कि 2005 में जब हम लोग बिहार में आ गए तो सारी बात की. 2007 में हम लोगों ने आपदा प्रबंधन प्राधिकरण शुरू करा दिया. अनिल कुमार सिन्हा को पहला उपाध्यक्ष बनाया. उन्होंने कहा कि सरकार के खजाने पर पहला अधिकार आपदा प्रभावितों का है ,यह सोचकर हम लोग लगातार काम करते रहे. बाढ़ और सूखा को लेकर हम लोगों ने काफी काम किया है. लोगों की मदद की है. नीतीश कुमार ने कहा कि एसडीआरएफ कि हमने व्यवस्था की है. हमने कहा है कि इनकी संख्या और बढ़ाई जाए. एसडीआरएफ और एनडीआरएफ आपदा में काफी बढ़िया काम करते हैं. लोगों को बचाते हैं. नीतीश कुमार ने कहा कि हर खेत तक सिंचाई की व्यवस्था हो जाए इस पर हम काम में जुटे हुए हैं. प्राधिकरण के पूर्व उपाध्यक्ष से कहा कि अनिल बाबू याद रखिए. आजकल आप दिल्ली में रहते हैं. बड़ा बड़ा काम करते हैं. आपसे आग्रह करेंगे कि जरा बिहार में भी आपदा के लिए जो काम हो रहा है उसमें भी बीच-बीच में आकर सहयोग करिए. आपकी जो इच्छा होगी उसको हम पूरा करेंगे. आपको हम उसी जगह पर लगवा देंगे. हम आप को छोड़ेंगे नहीं. आपको जीवन भर याद रखेंगे .आपसे तब से जुड़े हुए हैं जब हम केंद्रीय मंत्री थे .हम आपको भूलेंगे नहीं.

नीतीश खुद करने लगे सम्मानित 

आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के स्थापना दिवस समारोह में अतिथियों को सम्मानित किया जा रहा था. प्राधिकरण के सचिव पौधा देकर अतिथियों को सम्मानित कर रहे थे. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार व मंत्रियों के स्वागत के बाद खुद मुख्यमंत्री आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष व सदस्यों को सम्मानित करने लगे. सचिव से सम्मान वाला पौधा लेकर सबसे पहले नीतीश कुमार ने प्राधिकरण के उपाध्यक्ष उदयकांत मिश्र को पौधा देकर सम्मानित किया. इस दौरान अधिवेशन भवन में मौजूद लोग तालियां बजाने लगे. सीएम नीतीश और उदय कांत मिश्रा समेत सभी अतिथि हंसने लगे. मुख्यमंत्री इतने भऱ से नहीं रूके. मंच पर मौजूद प्राधिकरण के सदस्य पीए. एन. राय को भी सम्मानित किया। इसके बाद मुख्यमंत्री ने अपने पूर्व सचिव मनीष वर्मा को भी पौधा देकर सम्मानित किया। 

दो दिन पहले भी नीतीश कुमार राजगीर में इतने खुश हुए कि दो लोगों का पैर छूआ था. दरअसल, नीतीश कुमार राजगीर में गुरूनानक देव अतिथिशाला का उद्घाटन करने गये थे. तब नीतीश कुमार ने सिख्स समुदाय के लोग बड़े ठेकादार का पैर छुआ था. नीतीश कुमार ने कहा था कि इन दोनों ने हमारी बात को मान कर इस स्थान  के रखरखाव का जिम्मा लिया. इसलिए हम खुश हैं और इनका चरण स्पर्श करते हैं. 


Find Us on Facebook

Trending News