सीएम नीतीश का समाज सुधार अभियान गया में हुआ बेअसर, दस साल के बच्चे की आठ साल की बच्ची से लोगों ने कराई शादी

सीएम नीतीश का समाज सुधार अभियान गया में हुआ बेअसर, दस साल के बच्चे की आठ साल की बच्ची से लोगों ने कराई शादी

GAYA : समाज सुधार अभियान के तहत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई जिलों में जाकर लोगों को बाल विवाह रोकने के प्रति जागरूक करने की कोशिश की। इसके बावजूद गया जिले में बाल विवाह इन दिनों तेजी से हो रहा है। हालांकि समाज कल्याण विभाग और जिला प्रशासन का कहना है कि जिले में बाल विवाह जैसी कुप्रथा अब न के बराबर है। लेकिन शहर व उससे कोसो दूर बाल विवाह हर शुभ मुहूर्त में परवान चढ़ रहा है। इसी कड़ी में बाल विवाह का एक वीडियो जिले में तेजी से वायरल हो रहा है। जिसमें करीब 10 साल के लड़के की शादी करीब आठ साल की बच्ची के साथ पूरे धूमधाम से किया जा रहा है। लड़की और लड़का पक्ष की महिलाएं दूल्हे- दुल्हन को मांगलिक गीत गाकर हल्दी लगा रही हैं। यहीं नहीं युवक एक डब्बे को हाथ में लेकर उसे पीट रहा है और नाच रहा है तो वहीं दूसरा युवक टूटी हुई तख्ती पर छड़ी से पीट-पीट कर जश्न का माहौल तैयार कर रहा है।

सूत्रों के मुताबिक यह वीडियो डुमरिया प्रखंड क्षेत्र का बताया जा रहा है। लेकिन किस निश्चित स्थान का है इस बात की जानकारी अब तक नहीं लग सकी है। सूत्र का कहना है कि वीडियो गुरुवार को तैयार किया गया है। बाल विवाह गुरुवार को डुमरिया क्षेत्र में लगने वाले हाट बाजार स्थित एक निर्माधीण मंदिर के परिसर में पूरी तैयारी के साथ चट मंगनी पट विवाह की तर्ज पर किया गया है। सूत्रों का कहना है कि शादी दोनों पक्ष की रजामंदी से की गई है। जबकि लड़का-लड़की की उम्र शादी के लायक नहीं है। बावजूद इसके दोनों की शादी करा दी गई। सूत्रों का कहना है कि डमुरिया नक्सल प्रखंड क्षेत्र के कई थाना क्षेत्रों में अक्सर बाल विवाह की बातें देखने और सुनने को मिलती है। मैगरा थाना क्षेत्र, भदवर थाना क्षेत्र और डुमरिया के आसपास के जंगली इलाकों में बाल विवाह निबटाए जाते हैं। सोईया धाम इलाका इन दिनों धार्मिक स्थल के रूप में उभर रहा है। यहां भी बाल विवाह की घटनाएं कभी कभी देखने व सुनने को मिलती है।

इधर एडीएसएस दिबेश शर्मा ने बताया कि इस तरह के मामले की जानकारी हमें नहीं है। संबंधित मामले में किस स्तर से कार्रवाई की जाएगी। इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि बाल विवाह अपराध की श्रेणी में आता है। लिहाजा पुलिस ही कार्रवाई करेगी। लेकिन जब उनसे यह पूछा गया कि आपका विभाग इस मामले में क्या करेगा तो उन्होंने वरीय अधिकारियों के पाले में गेंद फेंकते हुए कहा कि उनके आदेश पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News