महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी हिस्से के लोकार्पण समारोह में बोले सीएम नीतीश, कहा केंद्र ने बिहार में कई काम का दिया आश्वासन

महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी हिस्से के लोकार्पण समारोह में बोले सीएम नीतीश, कहा केंद्र ने बिहार में कई काम का दिया आश्वासन

PATNA : मुख्यमंत्री नीतीश कुमार तथा केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी हिस्से के सुपर स्ट्रक्चर रिप्लेसमेंट परियोजना का संयुक्त रूप से फीता काटकर लोकार्पण किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि आज नवीकृत महात्मा गांधी सेतु के पूर्वी भाग का लोकार्पण किया गया। एक वर्ष पूर्व इसके पश्चिमी भाग का लोकार्पण किया गया था। महात्मा गांधी सेतु का निर्माण कार्य वर्ष 1972 में शुरु हुआ था। वर्ष 1982 में इसके पश्चिमी लेन और 1987 में पूर्वी लेन का निर्माण कार्य पूर्ण हुआ था। वर्ष 1991 से इसमें कमजोरी आने की बात सामने आ रही थी और इस पुल को ठीक करने की बात चल रही थी। वर्ष 2014 में गांधी सेतु को लेकर गठित की गयी। स्थायी समिति ने यह तय किया था कि नए तरीके से इसे बनाया जाए। इसके बाद 15 जून 2017 से इस पर काम शुरू किया गया। सेतु के कंक्रीट भाग को रिप्लेस कर सुपर स्ट्रक्चर का काम किया गया। अब गांधी सेतु के दोनों लेन ठीक ढंग से बनकर तैयार हो गये है। वहीँ मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं प्रधानमंत्री को धन्यवाद देता हूं कि बिहार के विकास के लिए तथा सड़कों एवं पुलों के निर्माण के लिए केंद्र सरकार की तरफ से काम किया जा रहा है। नितिन गडकरी ने यहां किये जा रहे कार्यों के बारे में सारी बातों को बताया है और आश्वस्त भी किया कि और भी कई काम किये जायेंगे। गंगा नदी पर पहले 4 पुल बना था। लेकिन अब इस नदी पर 17 पुल बन रहा है। गांधी सेतु के समानांतर भी फोरलेन पुल बनाया जा रहा है। मुंगेर-भागलपुर - मिर्जा चौकी फोरलेन नया ग्रीनफील्ड कोरिडोर बनाया जा रहा है। मुंगेर मिर्जापुर मौजूदा पथ को ठीक कर उसका और 10 मीटर चौड़ीकरण किया जाएगा। इससे लोगों को आवागमन में सहूलियत होगी। वर्ष 1990 में अटल जी प्रधानमंत्री थे तो उनकी सरकार में मुझे रेलवे के साथ-साथ इस विभाग का दायित्व भी सौपा गया था। उस दौरान इन कामों को तय किया गया था। मुझे खुशी है कि इसे पूरा किया जा रहा है। मोकामा से मुंगेर तक के लिए जो योजनाएं हैं उसकी भी घोषणा की गयी है। सबका आकलन करके आपने निर्णय लिया है 13 हजार 586 करोड़ की लागत 15 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का आज लोकार्पण और शिलान्यास किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बिहार में सड़क, पुल, पुलियों, सरकारी भवनों का सिर्फ बेहतर निर्माण ही नही कराया जा रहा है बल्कि इसे हमेशा मेंटेन रखने को कहा गया है। विभागों को कहा गया है कि इसके लिए चाहे जितने अधिकारी, इंजीनियर्स की जरूरत है उसे बहाल करें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की तरफ से जो संभव है, किया जा रहा है। केंद्र का भी सहयोग मिल रहा है, इससे बिहार और उत्तम बनेगा। उन्होंने कहा कि इथेनॉल के निर्माण के लिए 2007 में योजना बनायी गई थी, मगर उस समय की केंद्र सरकार ने इसे नहीं माना था। उस समय 21 हजार करोड़ रूपये के निवेश का प्रस्ताव आया था। उन्होंने कहा कि अब आपके सहयोग से ये काम किया जा रहा है। इथेनॉल बनाने का काम शुरू हो चुका है। बिहार में मक्का का बड़े पैमाने पर उत्पादन होता है इससे इथेनॉल बनाने में बहुत सहुलियत होगी। इथेनॉल का उत्पादन यहां इतना होगा कि देश में इसकी कमी नही होगी। उन्होंने कहा कि हमारा आग्रह है कि इथेनॉल बनाने की सीमा न रखी जाए। इससे देश में इथेनॉल की कमी नहीं होगी। इथेनॉल का जो काम आपने शुरू कराया है। इसके लिये हम आपको नहीं भूलेंगे। इथेनॉल उत्पादन से बिहार के साथ-साथ देश का भी विकास होगा। राज्य सरकार की तरफ से आश्वस्त करते हैं कि हर प्रकार का सहयोग रहेगा, मिलकर काम करेंगे। 

बताते चलें की दिल्ली से पटना हवाई अड्डा पहुँचने के पश्चात् कार्यक्रम से पहले केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से 1 अणे मार्ग स्थित संकल्प में शिष्टाचार मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी को अंगवस्त्र एवं पुष्प गुच्छ देकर उनका स्वागत किया।

Find Us on Facebook

Trending News