CM नीतीश बोले- न किसी को फंसाते हैं न बचाते हैं, शुरूआती 3 महीनों में शराब पर था पूर्ण नियंत्रण, आगे भी उसी तरह से नियंत्रण की जरूरत

 CM नीतीश बोले- न किसी को फंसाते हैं न बचाते हैं, शुरूआती 3 महीनों में शराब पर था पूर्ण नियंत्रण, आगे भी उसी तरह से नियंत्रण की जरूरत

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि 2015 में महिलाओं की मांग पर शराबबंदी का निर्णय लिया. 1 अप्रैल 2016 से बिहार में शराबबंदी लागू है. शराबबंदी कानून लागू होने के अगले तीन महीने तक शराब पर पूरी तरह से नियंत्रित रखा गया था। उसी तरह के नियंत्रण की आगे भी जरूरत है। इस तरह से मुख्यमंत्री ने साफ कर दिया कि आज की स्थिति 2016 वाली नहीं है.  

शुरू के तीन महीनों में शराबबंदी पूरी तरह थी सफल

राजगीर में पुलिस अवर निरीक्षकों के दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए सीएम नीतीश ने महिला प्रशिक्षु पुलिस अवर निरीक्षकों से विशेष तौर पर आह्वान किया कि शराबबंदी में गड़बड़ करने वालों पर पैनी नजर रखते हुए कार्यवाही करनी है. यही आपका दायित्व है. लोगों को यह बताने की जरूरत है कि शराब के सेवन से कई तरह की बीमारियां होती है. मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां हम सभी को याद दिलाना चाहते हैं . बिहार में जब शराब बंदी लागू हुई थी उस वक्त शुरू के 3 महीनों में जिस तरह से आप लोगों ने नियंत्रण रखा था आगे भी उसी प्रकार नियंत्रण रखना है. गड़बड़ करने वालों पर निगरानी रखने के साथ-साथ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. मुख्यमंत्री ने प्रशिक्षु पुलिस अवर निरीक्षकों से कहा कि आप सबों का प्रशिक्षण हो गया है. इसलिए सभी अपने दायित्वों और जिम्मेदारियों को ठीक से निभाएं .आपकी हर जरूरत को हम पूरा करने का प्रयास करेंगे.

न हम फंसाते हैं न बचाते हैं-सीएम

सीएम नीतीश ने कहा कि कभी न हमने किसी को फंसाने की कोशिश की है और न किसी को बचाने की. गलत करने वालों पर कार्रवाई का काम पुलिस का है. जो उचित हो वही कीजिए. पुलिस का जो संवैधानिक दायित्व है वह काम करें. हम लोग का एक-एक चीज पर ध्यान है. थानों का ठीक ढंग से निर्माण कराया जा रहा है. बिहार पुलिस एकेडमी राजगीर और पटना पुलिस मुख्यालय बहुत ही अच्छा ढंग से बना है. पुलिस को हर तरह की सुविधाएं दी जा रही है. मुख्यमंत्री ने प्रशिक्षु पुलिस अवर निरीक्षक ने कहा कि आप सबों की अलग-अलग जगहों पर पोस्टिंग होने वाली है. सभी अच्छे ढंग से दायित्व का निर्वहन करें. दीक्षांत परेड समारोह के बाद मुख्यमंत्री ने बिहार पुलिस एकैडमी का निरीक्षण किया. निरीक्षण के क्रम में मुख्यमंत्री ने सिपाहियों के प्रशिक्षण भवनों के निर्माण कार्य को जल्द शुरू कराने का निर्देश दिया. बता दें बिहार में अभी 337 महिला पुलिस अवर निरीक्षक तैनात हैं. आज दीक्षांत परेड के बाद बिहार में पहली बार इतने बड़े पैमाने पर एक साथ 596 महिला पुलिस अवर निरीक्षक की तैनाती होगी.

Find Us on Facebook

Trending News