CM साहब! आपको खुश करने के लिए अफसरों ने किचन को 'रेस्टोरेंट' बना दिया, अगले दिन सबकुछ गायब, खाने के लिए धक्कामुक्की,ये 'हकीकत' आपने नहीं देखा

CM साहब! आपको खुश करने के लिए अफसरों ने किचन को 'रेस्टोरेंट' बना दिया, अगले दिन सबकुछ गायब, खाने के लिए धक्कामुक्की,ये 'हकीकत' आपने नहीं देखा

PATNA: कोरोना आपदा में मानव जीवन संकट में है । इस आपदा काल में भी अफसर अपने कारनामे से बाज नहीं आ रहे। बिहार का सुशासन राज जो अफसरशाही के लिए बदनाम है. यहां के अफसर सिर्फ दिखावे के लिए ही काम करते हैं. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को वास्तविक तस्वीर नहीं दिखाई जाती बल्कि सब कुछ मैनेज तरीके से उनके सामने रखा जाता है। मुख्यमंत्री भी क्षण भर के लिए किये गये व्यवस्था को देख गदगद हो जाते हैं। लेकिन वास्तविकता वो नहीं होती जो दिखाई जाती है बल्कि वो होती है जो छिपाई जाती है। वैशाली से एक वीडियो सामने आया जिसमें मुख्यमंत्री से बात करने से पहले अफसर उन गरीब लोगों को झूठ बोलने की ट्रेनिंग दे रहे थे। झूठ की ट्रेनिंग पाकर वो बेचारा शख्स सीएम नीतीश के सामने वही बोला जो अफसर ने सीखाया था। मुख्यमंत्री वो बात सुनकर गदगद हो गये। अब हम आपको एक दूसरी तस्वीर दिखाते हैं जिससे यह साबित हो जायेगा कि कोरोना काल में अफसर मुख्यमंत्री को अंधेरे में रख रहे हैं।

CM को खुश करने के लिए सामुदायिक किचेन को हाई क्लास रेस्टोरेंट बना देते हैं अफसर 

खबर बेगूसराय के बाघा सामुदायिक किचेन सेंटर का है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इन दिनों जिलों में संचालित सामुदायिक किचेन सेंटर का वर्चुअल टूर कर रहे हैं। सीएम किचेन की व्यवस्था को देख रहे हैं साथ ही लोगों से बातचीत कर भोजन के बारे में पूछ रहे हैं। मुख्यमंत्री की इस पहल की प्रशंसा की जानी चाहिए। लेकिन यहां अफसर सीएम नीतीश को ही अंधेरे में रख रहे हैं। जिस दिन मुख्यमंत्री कम्युनिटी किचेन को देखने वाले होते हैं उस दिन उसे हाई क्लास रेस्टोरेंट जैसा बना दिया जाता है। सीएम का टूर खत्म होते ही वो किचेन वास्तविक हैसियत में आ जाता है। हम आपको दो तस्वीर दिखा रहे हैं ।दोनों तस्वीर को देखने से सबकुछ साफ हो जायेगा। पहली तस्वीर में किचेन और डाइनिंग हॉल को सजाया गया है। जमीन पर लाल कालीन बिछाया गया है, आरामदायक कुर्सियां और सुंदर टेबल लगाया गया है। हॉल को गुब्बारे से सजाया गया था। कवर वाली कुर्सी और सुंदर सा टेबल पर बैठकर लोग स्वादिष्ट भोजन का लुफ्त उठा रहे थे। यह तस्वीर सोमवार की है जब सीएम नीतीश बेगूसराय के बाघा सामुदायिक किचेन का वर्चुअल निरीक्षण कर रहे थे। सीएम को खुश करने के लिए जिला प्रशासन ने बाघा स्थित सामुदायिक किचेन को दुल्हन की तरह सजवाया था। सीएम नीतीश कुमार के वर्चुअल निरीक्षण के लिए सोमवार को तैयार किया गया बाघा सामुदायिक किचेन किसी रेस्टूरेंट से कम नहीं लगता था।

दूसरे दिन सब कुछ था गायब,भोजन के लिए धक्का मुक्की 

अब दूसरी तस्वीर देखिये, यह अगले दिन की तस्वीर है जहां सबकुछ बदला-बदला सा है। न तो वीआईपी कुर्सियां है न टेबल। उसकी जगह प्लास्टिक की कुर्सी-टेबल ले लिया। खाने के लिए लोगों की भींड उमडी हुई है। एक छोटे से हॉल जिसमें सीएम के निरीक्षण के दिन 10 लोग भोजन कर रहे थे अगले दिन 100 लोग खा रहे थे।सबकुछ बदला-बदला सा। एक टेबल पर 4 से 7 लोगों को बैठाकर सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां उड़ाई जा रही थी, बल्कि खाना खाने के लिए आए बच्चों से भोजन परोसवाया जा रहा था। बगैर कोई सोशल डिस्टेंसिंग के एक बार में 60-70 लोगों को बैठाकर खाना खिलाया जा रहा था। हॉल के बाहर लोगों का हुजूम उमड़ा हुआ था, जो अंदर जाने के लिए धक्का मुक्की कर रहा था। धक्का मुक्की का वीडियो वायरल है। आप ऐसे कहें कि बेगूसराय के बाघा किचेन सेंटर में लोगों को भोजन नहीं बल्कि कोरोना परोसा जा रहा था। यह देखकर लगने लगा कि वाकई में यह बिहार का सामुदायिक किचेन सेंटर है। सोमवार की वो तस्वीर सिर्फ दिखावे के लिए थी। वहां के लोग कहते मिले उस दिन की व्यवस्था सिर्फ मुख्यमंत्री को दिखाने के लिए था।  

Find Us on Facebook

Trending News