सीएम नीतीश कुमार ने ग्रामीण विकास विभाग के कई योजनाओं का किया शिलान्यास, ससमय कार्य पूरा किए जाने का दिया टारगेट

सीएम नीतीश कुमार  ने  ग्रामीण विकास विभाग के कई योजनाओं का  किया शिलान्यास, ससमय कार्य पूरा किए जाने का दिया टारगेट

PATNA : बिहार ग्रामीण पथ अनुरक्षण नीति 2018 के अंतगर्त ग्रामीणों पथों के शत-प्रतिशत नवीकरण एंव अनुरक्षण की योजनाओं का आज सीएम नीतीश कुमार ने शिलान्यास किया। इस योजना के तहत कई पथों एवं  पुलों का निर्माण होगा। जिसपर 5254.08 करोड़ रुपये खर्च होंगे। शिलान्यास के बाद लोगों को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि जिस तरह आप ने योजनाओं का शिलान्यास कराया है, उसे उसी तरह समय पर पूरा कीजिए तब मुझे बुलाना सफल होगा।

उन्होंने कहा कि सरकार का लक्ष्य है कि बिहार के किसी भी कोने से राजधानी 4 घंटे में पहुंचा जा सके। इसे लेकर बहुत सारे काम पहले पूरा हो चुके है। प्रदेश के कई जिलों से राजधानी पहुंचना अब काफी आसान हो गया है। जहां पहले पटना पहुंचने में लोगों को 10-12 घंटे लगते थे अब 4 से 6 घंटे में राजधानी पहुंच रहे है। हमारा लक्ष्य बचे हुए जिलों को भी राजधानी से जोड़ना है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले सड़के कुछ विशेष लोगो के अनुसार ही बनती थी। जो लोग वीआईपी होते थे वही सड़क अपने लोगो के लिए बनवाते थे। लेकिन अब हर गांव को सड़क से जोड़ा जा रहा है।

वहीं उन्होंने ग्रामीण विकास विभाग के इंजीनियरों को विशेष रुप से नसीहत देते हुए कहा कि आप लोगो के ऊपर बड़ी जिम्मेदारी है। इसलिए अपने कर्तव्यों को अच्छे से निभाइए। ऐसा नही की सड़क टूट जाये और मेरे फोन करने पर उसे बनाया जाए। सीएम ने कहा कि मैं खुद इंजिनियरिंग का छात्र रहा हूं। मुझे पता है कि निर्माण में किस बात का ध्यान रखने से वह अच्छा होता है। 

नीतीश कुमार ने कहा कि सड़कों की मॉनिटरिंग चीफ इंजीनियर के स्तर तक कि जाए। अब सड़को को देखने के लिए लोग बाहर से आ रहे है। सड़क बनाने के लिए हमे कहीं से भी कर्ज लेने की जरूरत पड़ेगी तो हम लेंगे।

सीएम ने कहा कि इंजीनियर अगर बीपीएससी से आना चाहते है तो हमे कोई दिक्कत नही है। लेकिन हम चाहते है कि जितना ज्यादा से ज्यादा इंजीनियर है वह ज्यादा दिन तक बेरोजगार नही रहे। आप काम ज्यादा कीजिये 60 साल बाद भी काम कीजियेगा तो मन करेगा काम करने का नही तो 55 साल में ही बुढापा आ जायेगा। चीफ इंजीनियर यह नही सोचे कि वह बड़े हो गए है हम लोग तो छोटे है फिर भी काम करते है आप भी काम कीजिए।

गणेश सम्राट की रिपोर्ट

Find Us on Facebook