कॉलेज के प्रोफेसर और एक डॉक्टर हुए साइबर चोरी के शिकार, तीन दिन में खाते से 50 लाख गायब, मोबाइल पर नहीं मिला कोई मैसेज

कॉलेज के प्रोफेसर और एक डॉक्टर हुए साइबर चोरी के शिकार, तीन दिन में खाते से 50 लाख गायब, मोबाइल पर नहीं मिला कोई मैसेज

MUZAFFARPUR : मुजफ्फरपुर में कुछ दिन पहले ही एक बड़े साइबर गैंग का खुलासा किया गया था, जिसमें पंजाब नेशनल बैंक के एक कैशियर और उसके साथियों पर ग्राहकों के खाते से तीन करोड़ रुपए की निकासी का मामला सामने आया था। अभी इस मामले की जांच खत्म भी नहीं हुई है कि एक और बड़े साइबर चोरी की वारदात सामने आ गई है। साइबर चोरों ने सोमवार को एमपीएस साइंस कॉलेज के अंग्रेजी के प्रोफेसर डॉ. जेएन सिंह और शहर के एक डॉक्टर के खाते से 50 लाख से अधिक की राशि उड़ा ली गई है। सभी राशि साइंस कॉलेज स्थित पीएनबी ब्रांच से उड़ाई गई है। राशि की निकासी एनआरटीजीएस से की गई है। इसे लेकर डॉक्टर और प्रोफेसर ने शिकायत की है।

बैंक के कैशियर की गिरफ्तारी के बाद खाते की जांच करने के लिए पहुंचे

एमपीएस साइंस कॉलेज के अंग्रेजी के प्रोफेसर डॉ. जेएन सिंह ने बताया कि शनिवार को मीडिया के माध्यम से जानकारी मिली कि पीएनबी की साइंस कॉलेज शाखा से साइबर फ्रॉड ने एक करोड़ से अधिक राशि निकाल ली है। जिसके बाद वह अपना पासबुक अपडेट कराने के लिए पहुंचे थे। अपडेट करने के बाद जानकारी मिली कि तीन दिन में साइबर फ्रॉड ने एनआरटीजीएस के माध्यम से 45 लाख रुपये की निकासी कर ली है। साइबर फ्रार्ड ने बीते आठ, नौ और दस अगस्त को उनके खाते से रुपये निकाले हैं। आठ अगस्त को पांच लाख, फिर नौ अग्रस्त को पांच-पांच लाख चार बार और 10 अगस्त को पुन: पांच-पांच लाख चार बार में निकाले हुए थे।

कई बार पासबुक को देखानहीं हो रहा था भरोसा

प्रोफेसर ने बताया कि बैंक के कोई भी कर्मचारी पासबुक अपडेट करने को तैयार नहीं थे। सभी टाल-मटोल कर रहे थे। इसके बाद बैंक मैनेजर से मिलकर इसकी शिकायत की। वे भी पहले पासबुक अपडेट को लेकर हिचके। काफी दबाव देने पर एक महिला कर्मचारी को अपडेट करने को कहा। जब क्लर्क ने उन्हें पासबुक अपडेट कर दिया तो उन्होंने उनसे पूछा कि सब ठीक है ना। इसपर जब उन्होंने पासबुक देखा तो भौंचक रहे गए। कई बार अपना पासबुक देखा, फिर बैंककर्मी से कंफर्म हुए कि उनके ही खाता को अपडेट किया गया है या किसी और का तो नहीं चढ़ा दिया है। 

पैसे निकाले जाने का नहीं मिला मैसेज

प्रोफेसर ने बताया कि छोटी से छोटी निकासी करने के बाद भी बैंक के द्वारा रुपये निकासी की जानकारी मोबाइल पर मैसेज और ई-मेल के माध्यम से दी जाती रही है। इतनी बड़ी राशि निकल गयी, लेकिन पासबुक अपडेट करने के बावजूद मैसेज या मेल नहीं आया। 

वहीं देर शाम एसएसपी, सिटी एसपी, नगर डीएसपी और सदर थाने की पुलिस ने पीएनबी की साइंस कॉलेज शाखा में छानबीन की। मैनेजर और अन्य कर्मचारियों से एक घंटे तक पूछताछ की। इसके बाद एक बैंककर्मी को पुलिस ने मौके से हिरासत में लिया है। उसे गोपनीय जगह रखकर पूछताछ की जा रही है। इधर, एसएसपी जयंतकांत ने बताया कि प्रोफेसर और डॉक्टर के खाते से 50 लाख रुपये की निकासी हुई है, जिसकी जांच की जा रही है। 

Find Us on Facebook

Trending News