शिकायत-निलंबन-निगरानी रेडः अफसर ने किया था करोड़ों का घोटाला, CM नीतीश के सामने शख्स ने 'सुशासन' की खोली पोल तो नींद से जागे बड़े हाकिम

शिकायत-निलंबन-निगरानी रेडः अफसर ने किया था करोड़ों का घोटाला, CM नीतीश के सामने शख्स ने 'सुशासन' की खोली पोल तो नींद से जागे बड़े हाकिम

PATNA: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में 16 अगस्त को एक शख्स ने अफसर के भ्रष्टाचार की पोल खोली थी।सुशासन की पोल खुलने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हरकत में आ गये। फिर क्या था..... मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को तुरंत एक्शन लेने को कहा। मुख्यमंत्री का आदेश होते ही जो फाईल महीनों से दबी थी या दबा दी गई थी वह तेज रफ्तार से दौड़ने लगी। 16 अगस्त को खुली पोल और 18 अगस्त को निलंबन का आदेश जारी हो गया। अब 1 सितंबर को उस घोटालेबाज अधिकारी के ठिकानों पर विशेष निगरानी इकाई की छापेमारी शुरू हो गई है। आज सुबह से ही बिहार नगर सेवा के अधिकारी अनुभूति श्रीवास्तव के पटना आवास पर विशेष निगरानी इकाई की छापेमारी जारी है। 

विशेष निगरानी इकाई ने भभुआ नगर परिषद के तत्कालीन कार्यपालक पदाधिकारी व हाजीपुर नगर परिषद के कार्यपालक अधिकारी के पद से निलंबित अनुभूति श्रीवास्तव के घर पर छापेमारी की जा रही है। जानकारी के अनुसार मामला आय से अधिक संपत्ति से जुड़ा बताया जा रहा है. अनुभूति श्रीवास्तव बिहार नगर सेवा के अधिकारी हैं। भभुआ नगर परिषद में करोड़ों का घोटाला हुआ था। डीएम की जांच में अनुभूति श्रीवास्तव दोषी पाये गये थे। लेकिन जांच रिपोर्ट नगर विकास विभाग में दबा दी गई थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दरबार में जब इस मामले की शिकायत की गई तब जाकर डंप फाइल को निकाला गया। नगर विकास विभाग ने 18 अगस्त को घोटाले के आरोपी अधिकारी अनुभूति श्रीवास्तव को सस्पेंड कर दिया। 

16 अगस्त को सीएम नीतीश के जनता दरबार में हुई थी शिकायत 

16 अगस्त को शिकायतकर्ता ने सीएम नीतीश से कहा था कि भभुआ नगर परिषद में बड़ा घोटाला है। इस पर आप कार्रवाई कीजिए। नगर विकास विभाग इस मामले में कोई कार्रवाई नहीं करेगा। आप निगरानी विभाग से जांच कराइए। इस मुख्यमंत्री ने कहा कि तुंरत कार्रवाई होगी। आप नगर विकास विकास के अधिकारियों को जाकर बताइए। जरूरत पड़ी तो निगरानी जांच भी होगी। 

Find Us on Facebook

Trending News