देशद्रोह कानून और लक्ष्मण रेखा पर कांग्रेस और राजद को बोलने का हक नहीं- सुशील मोदी

देशद्रोह कानून और लक्ष्मण रेखा पर कांग्रेस और राजद को बोलने का हक नहीं- सुशील मोदी

पटना. बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तथा राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने देशद्रोह कानून को लेकर कांग्रेस पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि 1974 में जेपी आंदोलन को कुचलने से लेकर मुंबई में हनुमान चालीसा पढ़ने वाली सांसद नवनीत राणा की गिरफ्तारी तक कांग्रेस और उसकी समर्थित सरकारों ने ही देशद्रोह विरोधी कानून (124 A) का सबसे ज्यादा दुरुपयोग किया है।

सुशील मोदी ने कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी स्वयं कह चुके हैं कि एनडीए सरकार अंग्रेजों के जमाने के 1500 से ज्यादा अनावश्यक कानून खत्म करने के बाद 124 A की भी नये सिरे से समीक्षा कर रही है, तब कांग्रेस और राजद को संविधान की लक्ष्मण रेखा पर टीका-टिप्पणी करने की कोई जरूरत नहीं है। मोदी ने कहा कि सरकार देशद्रोह-विरोधी कानून पर इस तरह पुनर्विचार करने को प्रतिबद्ध है कि मौलिक अधिकार-मानवाधिकार की रक्षा और देश की सम्प्रभुता-अखंडता की सुरक्षा के बीच विश्वसनीय संतुलन स्थापित हो।

पूर्व उपमुख्यमंत्री मोदी ने कांग्रेस और राजद को याद दिलाया कि 1951 में पहले संविधान संशोधन के जरिये नेहरू सरकार ने बोलने की आजादी पर अंकुश लगाने की कोशिश की थी और 1974 में इंदिरा गांधी ने राजनीतिक विरोधियों का दमन करने के लिए 124 A के तहत दर्ज मामले को संज्ञेय अपराध बनाया था। मोदी ने कहा कि कांग्रेस और इंदिरा गांधी ने ही धारा-356 का 100 बार से ज्यादा दुरुपयोग कर चुनी हुई राज्य सरकारें बर्खास्त कीं। उन्होंने कहा कि जो लोग हनुमान चालीसा प्रकरण में 124 A के खुले दुरुपयोग पर चुप्पी साध गए, वे लक्ष्मण रेखा पर किस मुंह से बोल रहे हैं?

Find Us on Facebook

Trending News