अग्निपथ के खिलाफ कांग्रेस ने किया बड़ा ऐलान, बिहार के सभी 243 विधानसभा क्षेत्रों में करने जा रही है यह काम

अग्निपथ के खिलाफ कांग्रेस ने किया बड़ा ऐलान, बिहार के सभी 243 विधानसभा क्षेत्रों में करने जा रही है यह काम

पटना. अग्निपथ योजना के खिलाफ कांग्रेस ने बड़ा ऐलान की किया है. कांग्रेस नेता कन्हैया कुमार ने रविवार को कहा कि अग्निपथ देश के युवाओं और देश की सुरक्षा से खिलवाड़ है. इसलिए कांग्रेस ने 27 जून को बिहार के सभी 243 विधानसभा क्षेत्रों में सत्याग्रह करने का निर्णय लिया है. उन्होंने कहा कि अग्निपथ से देश को बड़ा नुकसान होने जा रहा है. इसलिए कांग्रेस ने केंद्र सरकार से इस योजना को वापस लेने की मांग की है. हम अग्निपथ के खिलाफ आंदोलन कर रहे हैं. हमारा आंदोलन शांतिपूर्ण रहेगा और हम सभी विधानसभा क्षेत्रों में सत्याग्रह करेंगे. 

कांग्रेस ने कहा है कि अग्निपथ योजना देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ है. अग्निपथ देश के युवाओं को अग्नि में झोंकने की योजना है. कन्हैया ने रविवार को ‘अग्निपथ की बात, युवाओं के साथ विश्वासघात’ शीर्षक से योजना की कमियां गिनाई. उन्होंने कहा कि अग्निपथ के नाम पर भाजपा देश की सुरक्षा और नौजवानों के भविष्य और सपनों के साथ खिलवाड़ कर रही है. 

मोदी सरकार की अन्य योजनाओं की तरह ही अग्निपथ भी एक असफल योजना है. इसका सबसे बड़ा चिंता का पक्ष है कि यह देश की सुरक्षा से खिलवाड़ करने वाली योजना है. कन्हैया ने कहा कि अग्निपथ की घोषणा करके सरकार गायब हो गई. सरकार की ओर से कोई प्रेस कांफ्रेस नहीं किया गया. उन्होंने सेना को आगे कर दिया. मंत्री ने घोषणा की लेकिन फैसले का बचाव करने के लिए सेना प्रमुखों को उतार दिया. वहीं अग्निपथ का फायदा गिनाते गिनाते कुछ भाजपा नेताओं ने यहां तक कह दिया अग्निवीरों को भाजपा दफ्तर में चौकीदार बनाएंगे. 

योजनाओं से कैसे देश और युवाओं की चिंता बढ़ी है इसी को लेकर कांग्रेस ने आज देश भर में संवाददाता सम्मेलन किया है. उन्होंने कहा कि मोदी सरकार की अन्य योजनाओं की तरह अग्निपथ भी एक असफल योजना है. नोटबंदी के दौरान भी सरकार ने इसी तरह के फायदे गिनाए थे लेकिन न तो काला धन सामने आया और ना ही कोई बड़ा बदलाव. जीएसटी के दौरान भी उसके कई फायदे गिनाए गए लेकिन अब तक जीएसटी में 36 बाद संशोधन किया जा चुका है. इसी तरह कृषि कानून को लाने के समाय भी कई फायदे गिनाए गए. भाजपा के मंत्रियों ने यहां तक कहा कि किसी भी सूरत में कृषि कानून वापस नहीं लेंगे. लेकिन जब देश में चुनाव आया और कृषि कानूनों के खिलाफ देश के हजारों किसान लगातार शांतिपूर्ण संघर्ष करते रहे तब 700 किसानों ने अपना बलिदान दे दिया. उसके बाद चुनाव के दौरान मोदी सरकार ने कृषि कानून को वापस ले लिया. 

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का परोक्ष मकसद देश के रक्षा बजट में कटौती करना है. सेना सिर्फ रोजगार का मसला नहीं है बल्कि देश की सुरक्षा का मसला है. ऐसे में रक्षा के साथ खिलवाड़ करने को कांग्रेस बर्दाश्त नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि केंद्र ने सोची समझी चाल के तहत अग्निपथ को सिर्फ 4 साल के लिए तय किया. इस कारण है कि 5 साल होने पर श्रम कानूनों के तहत ग्रेच्युटी देने का प्रावधान होता. यह सरकार देश की सुरक्षा में ठेकेदारी लाना चाहती है. कांग्रेस पार्टी देश के नौजवानों की भावनाओं के साथ खड़ी है और सेना में ठेकाकरण की शुरुआत ठीक नही है. उन्होंने कहा कि सेना में कार्यरत लोग खुद इस योजना को बेहतर नहीं मान रहे हैं. इस योजना के आने से सेना में स्थाई भर्ती समाप्त कर दी गई है. कांग्रेस देश की सुरक्षा और नौजवानों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का विरोध करेगी. 


Find Us on Facebook

Trending News