बालू खनन पर बोले कांग्रेसी विधायक, कहा - छोटी लेकिन स्वागतयोग्य कार्रवाई, सभी जिलों में अधिकारियों की हो जांच

बालू खनन पर बोले कांग्रेसी विधायक, कहा - छोटी लेकिन स्वागतयोग्य कार्रवाई, सभी जिलों में अधिकारियों की हो जांच

PATNA : बिहार में बालू तस्करी को लेकर सीएम नीतीश कुमार द्वारा दो एसपी और चार एसडीपीओ को निलंबित किए जाने को लेकर विपक्ष की तरफ प्रतिक्रियाएं जाहिर की गई है। जहां राजद की तरफ से इसे बड़ी मछलियों को बचाने की कोशिश माना है। वहीं कांग्रेस विधायक अजीत शर्मा ने इस कार्रवाई का स्वागत किया है। उन्होंने कहा कि यह कार्रवाई छोटी लेकिन बालू तस्करी को रोकने के लिए बड़ा कदम है।

विधानसभा पहुंचे भागलपुर विधायक ने कहा कि अभी भी बहुत कम कार्रवाई है। इसमें बिहार के तमाम अधिकारी शामिल हैं। विशेषकर उन जिलों में जहां बालू खनन का काम किया जाता है। उन जिलों के सभी अधिकारियों पर जांच की जानी चाहिए। राज्य में बालू का काला कारोबार बिना किसी सफेदपोश के सरंक्षण के संभव नहीं है। सरकार को उन सभी अधिकारियों के खिलाफ जांच की जानी चाहिए।

बड़ी मछलियों को बचा रही है

वहीं राजद ने दो आईपीएस को निलंबित करने की कार्रवाई को नाकाफी बताया है। राजद का कहना है कि बालू खनन को लेकर बड़ी मछलियों को बचाने की कोशिश कर रही है। जदयू के नेता राधा चरण सेठ को बचाने के लिए छोटे छोटे लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। बालू के अवैध धंधे पर रोक लगाने के लिए जरुरी है कि सभी बड़ी मछलियों पर शिकंजा कसा जाए।

बता दें मंगलवार को सीएम नीतीश कुमार ने औरंगबाद और भोजपुर के तत्कालिक एसपी को बालू तस्करी रोकने में नाकाम रहने और तस्करी में सहयोग करने के आरोप में निलंबित कर दिया था, इसके अलावा चार एसडीपीओ भी संस्पेंड किए गए थे। 


Find Us on Facebook

Trending News