कांग्रेस पार्टी का आरोप, कहा मिड डे मील की राशि बढ़ाने से इंकार कर केंद्र ने बिहार का किया उपेक्षा

कांग्रेस पार्टी का आरोप, कहा मिड डे मील की राशि बढ़ाने से इंकार कर केंद्र ने बिहार का किया उपेक्षा

GAYA : बिहार के प्राथमिक और मध्य विद्यालयों के बच्चों के मिड डे मील के पैसा बढ़ाने का राज्य सरकार के प्रस्ताव को केंद्र सरकार ने खारिज कर राज्य के करोड़ो बच्चों की उपेक्षा की है। अखिल भारतीय कांग्रेस कमिटी के सदस्य सह क्षेत्रीय प्रवक्ता बिहार प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रो विजय कुमार मिठू, पूर्व सांसद रंजीत सिंह उर्फ रंग बाबू, पूर्व विधायक मो खान अली, जिला उपाध्यक्ष राम प्रमोद सिंह, युगल किशोर सिंह, जिला महासचिव विद्या शर्मा, टिंकू गिरी, ओंकार नाथ सिंह, अमरजीत कुमार, असरफ इमाम, डा अहमद हुसैन मक्की, डा हमीद हुसैन, राजेश्वर पासवान, सतीश सिंह, सुरेन्द्र शर्मा, मुकेश कुमार शर्मा उर्फ पिंटू, विनोद उपाध्याय ने कहा की राज्य के विद्यालयों के लगभग एक करोड़ बीस लाख बच्चे मिड डे मील खाते है। जिनके लिए विद्यालयों के प्रधानाध्यापक को प्रति बच्चे 4 रु 97 पैसा दाल, सब्जी, मशाला, जलावन आदि के लिए मिलता है, जो इस बढ़ती हुई महंगाई को देखते हुए काफी कम है। जिसे कम से कम ढाई रुपया बढ़ने यानी प्रति बच्चे 7रु 45 पैसे करने का प्रस्ताव बिहार सरकार ने केंद्र सरकार को दिया था। जिसे केंद्र सरकार ने खारिज कर दिया, जो न्यायपूर्ण नही है।

नेताओं ने कहा की राज्य के विद्यालयों के प्रधानाध्यापक या तो दाल, सब्जी में कटौती करेंगे या बच्चो की गिनती में हेराफेरी कर काम चलाएंगे। जिससे खाना की गुणवत्ता और भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। जैसा अभी देखने को मिलता है की अधिकांश ग्रामीण विद्यालयों में जलावन में गैस की जगह बच्चो के घर से या गांव से लकड़ी, गोइठा, लरहेठा, चेफुआ, आदि से काम चला रहे है। जिससे रसोइया को धुआं से काफी कष्ट भी होता है, बच्चो को भी कई जगह धुआं लगता है।

नेताओं ने कहा की बच्ची की थाली की पैसा बढ़वाने हेतु सभी सरकार एवं विपक्ष के जनप्रतिनिधिगण, राजनीतिक दलों ने एकजुट होकर केंद्र सरकार पर इसके लिए दवाब बनाने का भी प्रस्ताव नीतीश सरकार को दिए है, परंतु अभी एकजुट होकर मांग नहीं किया गया है।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News