महंगाई और बेरोज़गारी के विरोध में कांग्रेस का काला कुर्ता और पगड़ी वाला विरोध, प्रधानमंत्री आवास का भी घेराव

महंगाई और बेरोज़गारी के विरोध में कांग्रेस का काला कुर्ता और पगड़ी वाला विरोध, प्रधानमंत्री आवास का भी घेराव

 DESK. महंगाई और बेरोज़गारी के विरोध में कांग्रेस शुक्रवार को राष्ट्रीय स्तर पर विरोध प्रदर्शन कर रही है. दिल्ली सहित पूरे देश में इसके लिए कांग्रेस ने सड़क से संसद तक अपना विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है. वहीं महंगाई और बेरोज़गारी के विरोध में राज्यसभा में विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने काला कुर्ता और पगड़ी पहनी. आम दिनों में सफेद धोती-कुर्ता पहनने वाले मल्लिकार्जुन शुक्रवार को विशेष वेशभूषा में नजर आए. वे विरोध जताने के लिए काला कुर्ता और पगड़ी पहनकर संसद भवन पहुंचे. वहीं कांगेस नेता राहुल गांधी भी अपनी बाजू पर काला पट्टा बांधकर विरोध जताने उतरे. 

इस बीच, दिल्ली की सडकों पर कांग्रेस के कई नेता और कार्यकर्त्ता विरोध जताने के लिए उतरे हैं. हालांकि कांग्रेस मुख्यालय के पास भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है. किसी को भी वहां भीड़ लगाने की अनुमति नहीं दी गई है. बावजूद इसके बड़ी संख्या कांगेस नेता और कार्यकर्त्ता वहां जुटे हुए हैं और जोरदार हंगामा कर रहे हैं. 


इसके पहले . नेशनल हेराल्ड मनी लॉन्ड्रिंग केस में घिरे कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को महंगाई, बेरोजगारी और GST के मुद्दे को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने मोदी सरकार पर कई आरोप लगाए। साथ ही कहा कि 8 साल में लोकतंत्र बर्बाद कर दिया। इस देश ने 70 साल में जो कुछ भी बनाया उसे 8 साल में समाप्त कर दिया गया। आज हिंदुस्तान में लोकतंत्र नहीं है बल्कि 4 लोगों की तानाशाही है। हम महंगाई, बेरोजगारी और समाज को बांटने के विषय पर चर्चा करना चाहते हैं। हम प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए और संसद में इस विषय पर चर्चा करना चाहते हैं लेकिन हमें रोका जाता है, गिरफ्तार किया जाता है। हमें संसद में चर्चा नहीं करने दी जाती है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक गहलोत ने कहा कि किसी ने कभी कल्पना नहीं की थी कि देश में ऐसा वक्त भी आएगा कि तिरंगों के लिए लोगों को समाप्त होते देखा जाएगा। कोई कल्पना नहीं कर सकता जिस रूप में संविधान की धज्जियां उड़ रही हैं। महंगाई, बेरोज़गारी, जीएसटी पर कोई सुनवाई करने वाला नहीं है। उन्होंने कहा कि संसद चल रही है और मल्लिकार्जुन खड़गे को जांच के लिए बुलाया जाता है।

राहुल गांधी ने कहा कि लोकतंत्र में विपक्ष संस्थाओं के माध्यम से लगती है। लेकिन संस्थाएं सरकार को पूरा समर्थन दे रही हैं क्योंकि वहां पर सरकार के अपने लोग बैठे हुए हैं। संस्थाएं स्वतंत्र नहीं है। हिंदुस्तान की हर एक संस्था आरएसएस के कंट्रोल में है। राहुल गांधी ने कहा कि हमारी सरकार में इंफ्रास्टर निष्पक्ष होता थी। संस्थाओं को निष्पक्ष रखना जरूरी है।


Find Us on Facebook

Trending News