विधायकों की खरीद फरोख्त से डर गई कांग्रेस, राज्य सभा चुनाव के पहले लग सकता है बड़ा झटका, हरियाणा के सारे MLA किए गए शिफ्ट

विधायकों की खरीद फरोख्त से डर गई कांग्रेस, राज्य सभा चुनाव के पहले लग सकता है बड़ा झटका, हरियाणा के सारे MLA किए गए शिफ्ट

DESK. राज्य सभा चुनाव के पहले कांग्रेस को अपने विधायकों की खरीद फरोख्त का डर सता रहा है. इसे लेकर कांग्रेस का शीर्ष नेतृत्व काफी चिंतित है. विशेषकर हरियाणा के विधयाकों को लेकर पार्टी की चिंता बढ़ी हुई है. इसी कारण गुरुवार को हरियाणा के सभी कांग्रेस विधायकों को सुरक्षित स्थान पर शिफ्ट कर दिया गया. 

10 जून को राज्यसभा चुनाव होने वाले हैं लेकिन इससे पहले विधायकों पर खरीद-फरोख्त का खतरा मंडरा रहा है. ऐसे में पार्टियां सतर्क हो गई हैं. प्राप्त जानकारी के मुताबिक, कांग्रेस ने हरियाणा के विधायकों को छत्तीसगढ़ शिफ्ट करने का फैसला किया. गुरुवार को हरियाणा कांग्रेस के सभी विधायकों की एक बैठक हुई जिसमें तीन विधायकों के अनुपस्थित रहने की खबर है. 

वहीं विधायकों को कोई अन्य दल प्रलोभन देकर तोड़ न ले इसलिए सभी कांग्रेस विधायकों को हरियाणा से छत्तीसगढ़ शिफ्ट किया जा रहा है. इसके लिए विशेष बस की भी व्यवस्था की  गई है. हरियाणा के विधायकों को दिल्ली लाया गया है, जहां से एक निजी विमान के माध्यम से इन विधायकों को रायपुर ले जाया गया. हालांकि इस बात की अभी पुष्टि नहीं हो पाई है कि पार्टी के दिग्गज नेता कुलदीप विश्नोई भी साथ हैं या नहीं. क्योंकि कुलदीप विश्नोई अजय माकन की उम्मीदवारी से नाराज बताए जा रहे हैं. कांग्रेस में राज्यसभा उम्मीदवारों को लेकर पहले से ही घमासान मचा हुआ है. ऐसे में पार्टी को विधायकों के क्रॉस वोटिंग का डर ज्यादा सता रहा है.

दरअसल, कार्तिकेय शर्मा ने हरियाणा से बतौर निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर अपना नामांकन दाखिल किया है. ऐसे में भाजपा और उसकी सहयोगी पार्टी जजपा ने कार्तिकेय शर्मा को अपना समर्थन देने का ऐलान किया है. हरियाणा में किसी भी उम्मीदवार को जीत के लिए 31 वोटों की जरूरत है. भाजपा के पास 41 विधायक हैं और सहयोगी जजपा के पास 10 विधायक मौजूद हैं. जबकि कांग्रेस के पास 31 विधायक मौजूद हैं लेकिन डर इस बात का है कि अगर एक भी विधायक क्रॉस वोटिंग करने पाया तो राज्यसभा की कुर्सी सीधे कार्तिकेय शर्मा के पास चली जाएगी.


Find Us on Facebook

Trending News