जसीडीह स्टेशन की छवि धूमिल कर रहा है ठेकेदार, सुविधाओं के नाम पर हो रही है अवैद्य वसूली

जसीडीह स्टेशन की छवि धूमिल कर रहा है ठेकेदार, सुविधाओं के नाम पर हो रही है अवैद्य वसूली

DEVGHAR : देवघर जाने के लिए जसीडीह महत्वपूर्ण स्टेशन है. इसे अत्याधुनिक बनाया गया है. इस वजह से स्टेशन को एक ग्रेड का दर्जा मिला है. खासकर यहां कांवरियों की सुविधा के लिए हरसंभव सुविधा बहाल की गई है. लेकिन रेलवे को ठेकेदार और संचालक इसकी छवि को नुकसान पहुंचा रहे है. इसका खुलासा तब हुआ जब यात्रियों से 3 गुना और 4 गुना पैसे सुविधा शुल्क के रूप में वसूले जा रहे थे. वह भी खुलेआम. मामला देर रात  जसीडीह स्टेशन का है जहां पर यात्रियों की सुविधा के लिए नया शौचालय और स्नानागार बनाया गया है. इसे उपयोग करने का शुल्क ₹2 और ₹5 रखा गया था. लेकिन संचालक कांवरियों से अवैध रूप से 5 रुपए ₹10 और 20 रुपए जो मर्जी आता वसूल रहे थे. कुछ कांवड़ियों ने शिकायत की तो मामले का खुलासा हो गया.

बताते चले की जसीडीह रेलवे स्टेशन पर कांवरियों को दिक्कत ना हो इसके लिए स्टेशन के बाहरी परिसर के वेटिंग रूम में शौचालय की व्यवस्था की गई है. इसका संचालन प्राइवेट ठेकेदार को दिया गया. जिसका शुल्क ₹2 से लेकर ₹5 तक है लेकिन कांवड़ियों की शिकायत थी कि यहां ₹10 से लेकर ₹30 तक वसूले जा रहे हैं. मजबूरी में कांवरिया दे भी रहे थे. जब इस मामले का रियलिटी चेक किया गया तो पता चला कि कांवरियों से वाकई में अवैध रूप से तीन गुने पैसे वसूले जा रहे थे. संचालक के पास पूछे जाने पर कोई जवाब नहीं था. 

कांवड़ियों ने मामले का उद्भेदन होता देख हंगामा करना शुरू कर दिया. मजबूरी में संचालक को सभी कांवड़ियों के पैसे वापस करने पड़े. संचालक की ओर से यहां पर रेलवे द्वारा दिए गए शुल्क विवरण बोर्ड को छुपा दिया गया था. जिसमें दर तय किए गए थे. हंगामा बढ़ता देख पुलिस वाले भी सामने नहीं आए. 

जबकि यहां सीसीटीवी कैमरे भी लगे हुए थे.यह सब कुछ कई दिनों से चल रहा था. यह मामला जब सामने आया तो  पूर्व रेलवे   के एजीएम एसके श्रीवास्तव स्टेशन का मुआयना करने पहुंचे थे. बावजूद ठेकेदार मनमाने तरीके से पैसे वसूल रहा था. इस सम्बन्ध में जब उनसे सवाल जवाब किया गया तो इस बात की जानकारी होने से इनकार किया. लेकिन इस मामले की जांच कर कार्रवाई का भरोसा दिया है. 

देवघर से सुनील की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News