ठेकेदार हत्याकांड में फरार तीनों इंजीनियर निलंबित, गिरफ्तारी को लेकर पुलिस के कई शहरों में छापे

ठेकेदार हत्याकांड में फरार तीनों इंजीनियर निलंबित, गिरफ्तारी को लेकर पुलिस के कई शहरों में छापे

गोपालगंज में चीफ इंजीनियर के आवास पर ठेकेदार को जिंदा जलाने के मामले में आरोपित अभियंताओं को निलंबित कर दिया गया है।  मुख्य अभियंता मुरलीधर सिंह, अधीक्षण अभियंता जितेंद्र सिंह एवं कार्यपालक अभियंता सत्येंद्र कुमार को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है निलंबन अवधि में संयुक्त सचिव प्रबंधन को मुख्यालय बनाया गया है। जल संसाधन विभाग ने जांच कमेटी बनाकर इसकी जांच कराई। जांच के बाद विभाग ने मुख्य अभियंता समेत तीनों अभियंताओं को निलंबित कर दिया है। 

इस घटना के बाद से आरोपी चीफ इंजिनियर, उसकी पत्नी, अधीक्षण अभियन्ता और कार्यपालक अभियंता फरार हैं। घटना के चार दिन बाद भी एसआईटी अरोपियों को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। जबकि कोर्ट ने सभी आरोपियों के खिलाफ गिरफ़्तारी वारंट भी जारी कर दिया है।

क्या है मामला

29 अगस्त को गोपालगंज के बड़े ठेकेदार रमाशंकर सिंह की जल संसाधन विभाग के चीफ इंजीनियर के सरकारी आवास पर जलने से संदेहास्पद मौत हो गई थी। इस मौत के बाद मृतक के बेटे राणा प्रताप सिंह ने चीफ इंजीनियर मुरलीधर सिंह, उनकी पत्नी, अधीक्षण अभियंता और कार्यपालक अभियंता के ऊपर जिन्दा जलाकर हत्या करने का आरोप लगाया था। इसके अलावा अन्य चार अज्ञात लोगों को भी इस मामले में आरोपी बनाया गया है।

बेटे का आरोप था की जल संसाधन विभाग में चीफ इंजीनियर के आवास के निर्माण में करीब 60 लाख रूपये का भुगतान लंबित था जिसके लिए चीफ इंजीनियर और अन्य अभियंताओं द्वारा 15 लाख रूपये कमीशन की मांग की जा रही थी। कमीशन की राशि नहीं मिलने से नाराज अभियंताओं द्वारा उनकी जिन्दा जलाकर हत्या कर दी गयी थी।

Find Us on Facebook

Trending News