नालंदा में धरने पर बैठे ठेकेदार, ग्रामीण कार्य विभाग के खिलाफ खोला मोर्चा

नालंदा में धरने पर बैठे ठेकेदार, ग्रामीण कार्य विभाग के खिलाफ खोला मोर्चा

NALANDA : ग्रामीण कार्य विभाग द्वारा एक सप्ताह के भीतर ख़राब सड़को की मरम्मत किये जाने के आदेश के विरोध में नालंदा जिला संवेदक संघ के सदस्यों ने गुरुवार को बिहारशरीफ कार्यालय परिसर में धरना दिया. इस मौके पर संघ के सदस्यों ने बताया कि विभाग द्वारा जारी किया गया यह आदेशतुगलकी फरमान है. जबकि निविदा के समय पांच वर्षो तक खराब या टूटे सड़कों को समय समय पर रख रखाव की बात बतायी गयी है. 

इसे भी पढ़े : ट्रेन से गिरकर युवक की हुई मौत, परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल

इसके बावजूद अब विभाग द्वारा एक सप्ताह के भीतर इस कार्य को पूरा कर लेने का आदेश जारी किया गया है, जो कि संभव नहीं है. एक सप्ताह के भीतर कोई भी संवेदक इस कार्य को पूरा नहीं कर पायेगें. साथ ही अधिकारियों और कर्मियों की मनमानी के कारण कार्य पूर्ण हो जाने के बाद भी राशि का भुगतान नहीं किया जाता है. अगर विभाग का इसी तरह का रवैया रहा तो हमलोग आगे भी चरणबध आंदोलन करेगें.

ठेकेदारों की मांगे 

1. पंचवर्षीय रख-रखाव का भुगतान

2. चल रहे कार्यो का भुगतान

3. अभियंताओं के द्वारा बर्बरतापूर्ण रवैया बंद हो

4. अविलम्ब संवेदको को डिवार से मुक्त करना

5. पंचवर्षीय अनुरक्षण का रख-रखाव, एकरारनामा में समयांकित किया गया है,उस अनुरुप कार्य कराना.

6. ग्रामीण कार्य विभाग में नीचे से लेकर उपर तक वृहत् पैमाने पर व्यापक भ्रष्टाचार से मुक्ति.

7. विशिष्टियों के अनुरूप कार्य करने के बावजूद विभिन्न तरह के समस्याओं को नजरअंदाज करते हुये एकरारनामा के विरुद्धफरमान जारी करना प्रमुखता है.

इसी तरह की 15 सूत्री मांग नालंदा जिला संवेदक संघ की ओर से की गयी है. 

इसे भी देखे : गया के बड़े अस्पताल में बच्चे की चोरी, घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद, जांच में जुटी पुलिस

नालंदा से राज की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News