कोरोना वायरस से चरमराई अमेरिकी अर्थव्यवस्था, 1.5 करोड़ लोगों का रोजगार संकट में

कोरोना वायरस से चरमराई अमेरिकी अर्थव्यवस्था, 1.5 करोड़ लोगों का रोजगार संकट में

News4nation desk : कोरोना वायरस के प्रकोप की वजह से अमेरिकी अर्थव्यवस्था अनिश्चितता के दौर में पहुंच गई है। देशभर में कारोबार ठप है। व्यावसायिक और वित्तीय गतिविधियों के केंद्र न्यूयॉर्क की स्थिति चिंताजनक है। यह देखना मुश्किल है कि स्थिति किस हद तक बिगड़ेगी। 

न्यूयार्क टाइम्स में छपी खबर के अनुलसार ऑक्सफोर्ड इकोनॉमिक्स के प्रमुख अमेरिकी अर्थशास्त्री ग्रेग डेको का कहना है, अर्थव्यवस्था में साल की पहली तिमाही में 0.4% और दूसरी तिमाही में 12% तक गिरावट होगी। लेकिन, गोल्डमैन सॉक्स का कहना है कि दूसरी तिमाही में गिरावट का आंकड़ा 24% तक हो सकता है। उसका यह भी दावा है कि इस समय बेरोजगार लोगों की संख्या 22 लाख तक पहुंच चुकी है। उधर, डेको का अनुमान है, अप्रैल तक बेरोजगारों की संख्या एक करोड़ 65 लाख हो सकती है।

खबर के अनुसार अमेरिका के अर्थव्यवस्था का ऐसा हाल पहले कभी नहीं देखा गया। न्यूयॉर्क सहित सभी प्रमुख शहर लगभग लॉकडाउन से गुजर रहे हैं। न्यूयॉर्क राज्य में जरूरी सेवाओं को छोड़कर सभी कामगारों को घर में बंद रहने के लिए कहा गया है। युद्ध के समय ही ऐसा संकट था। यह महामंदी से भी आगे जा सकता है। मोर्गन स्टेनले बैंक की मुख्य अर्थशास्त्री एलन जेंटनर के अनुसार युद्ध के समय ही ऐसा संकट था। यह महामंदी से भी आगे जा सकता है। 

एलन जेंटनर कहती हैं, पहले कभी किसी मंदी के दौर में लोगों को बाहर निकलने से नहीं रोका गया था। उनका कहना है, बड़ी कंपनियों की तुलना में छोटी कंपनियों पर जबर्दस्त मार पड़ेगी। जनवरी तक अर्थव्यवस्था पूरी गति से दौड़ रही थी, वह अब ठहर चुकी है।

अमेरिकी श्रम विभाग ने बताया है कि पिछले सप्ताह बेरोजगारी की दर उछलकर 30% पहुंच गई थी। छंटनी के दायरे में आने वाले लोगों की संख्या दो लाख 81 हजार थी। अब यह संख्या बेहद छोटी लग रही है। गोल्डमैन सॉक्स का दावा है कि अगले सप्ताह तक आंकड़ों के 22 लाख से अधिक पहुंचने का अंदेशा है। 

डेको का कहना है, बेरोजगारी की दर अप्रैल में 10% हो सकती है। इस हिसाब से देखें तो एक करोड़ 65 लाख व्यक्ति नौकरियों से वंचित हो जाएंगे। पिछली मंदी के बाद से ऐसा कभी नहीं देखा गया है। आने वाले महीनों में बेरोजगारी की दर और ज्यादा बढ़ेगी। अमेरिकी ट्रेजरी सेक्रेटरी स्टीवन नुचिन तो 20% बेकारी की आशंका जता चुके हैं।
 
 

Find Us on Facebook

Trending News