पितृपक्ष मेला के तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटा निगम और जिला प्रशासन, मंत्री के साथ मेयर और डिप्टी मेयर ने लिया जायजा

पितृपक्ष मेला के तैयारियों को अंतिम रूप देने में जुटा निगम और जिला प्रशासन, मंत्री के साथ मेयर और डिप्टी मेयर ने लिया जायजा

GAYA : विश्व प्रसिद्व राजकीय पितृपक्ष मेला की तैयारियों की अंतिम चरण में जिला प्रशासन से लेकर निगम प्रशासन रात-दिन युद्धस्तर पर अपनी-अपनी व्यवस्थाओं को अंजाम दे रहे है। जिला प्रशासन से लेकर निगम प्रशासन तक सिर्फ एक ही उद्देश्य को लेकर दिन-रात एक करने में जुटे है कि पिंडदानियों को किसी तरह की परेशानी न हो। इसी क्रम में बुधवार को पितृपक्ष मेला के उद्घाटन से दो दिन पहले बिहार सरकार के सहकारिता विभाग के मंत्री सुरेंद्र प्रसाद यादव, मेयर वीरेंद्र कुमार उर्फ गणेश पासवान एवं डिप्टी मेयर अखौरी ओंकारनाथ उर्फ मोहन श्रीवास्तव मेला क्षेत्र में की जा रही तैयारियों का जायजा लिया। मंत्री, निवर्तमान मेयर और डिप्टी मेयर ने सबसे पहले गया कॉलेज खेल परिसर में बने जिला प्रशासन के शिविर, शौचालय, साफ-सफाई का जायजा लिया। मंत्री व जनप्रतिनिधियों ने संबंधित पदाधिकारियों को कई जरूरी दिशा-निर्देश दिया।


इसके बाद गया के ऐतिहासिक गाँधी मैदान में तीर्थयात्रियों के ठहरने के लिए बन रहे टेंट सिटी का जायजा लिया। इसके अलावा विष्णुपद के देवघाट पर बने पंडाल एवं साफ-सफाई का जायजा लिया। उन्होंने संबंधित अधिकारी को कहा कि सफाईकर्मी घाट का चकाचक रखे। देवघाट पर बने शौचालयों की बेहतर एवं नियमित साफ-सफाई का निर्देश दिया गया। 

मंत्री सुरेंद्र प्रसाद यादव ने कहा कि 9 सितंबर से पितृपक्ष मेला शुरू हो रहा है। इस बार उम्मीद है कि दस लाख से ज्यादा तीर्थयात्री पहुंचेंगे। मेला की पूरी तैयारी हो चुकी है। निगमकर्मियों की हड़ताल की वजह शहर की साफ-सफाई प्रभावित था। लेकिन सरकार, मेयर-डिप्टी मेयर, जिलाधिकारी, नगर आयुक्त के प्रयास से वार्ता हुई और गया शहर की आधा से ज्यादा सफाई हो गई। इसके लिए सभी धन्यवाद का पात्र हैं। मंत्री ने कहा कि सीएम नीतीश कुमार ने गयाजी को एक बड़ा तोहफा दिया है। उन्होंने देश का सबसे बड़ा रबड़ डैम का निर्माण कराया है। जिससे फल्गु नदी को सीता के श्राप से भी मुक्ति मिल गई है। अब नदी में सालों भर पानी रहेगा। पिंडदानी फल्गु के जल से तर्पण कर सकेंगे। इस बार जिला प्रशासन की तैयारी काफी बेहतर है। गांधी मैदान में टेंट सिटी के निर्माण से 50 हजार से ज्यादा तीर्थयात्री पूरी सुविधा के साथ ठहरने की व्यवस्था बनाई गई है। साथ ही सुरक्षा के भी कड़े प्रतिबंध किए गए हैं।

वहीं निर्वतमान डिप्टी मेयर ने कहा की कोरोना काल के दो साल बाद पितृ मुक्ति का महासंगम पितृपक्ष मेला का इस बार शुभारंभ हो रहा है। तैयारी अंतिम चरण पर है। सभी तैयारी पूरे हो चुकी हैं। उन्होंने कहा कि गयाजी में पिंडदानियों से किसी प्रकार से असुविधा न हो। इसके लिए मेला क्षेत्रों के सभी स्थानों का बारीकी से जायजा लिया जा रहा है। ताकि गयाजी से पिंडदानी जब लौटे तो अच्छी संदेश लेकर जाएं। निगम के तमाम जनप्रतिनिधि, निगम प्रशासन, जिला प्रशासन काफी तन-मन से लगे हुए है। हमलोग भी सेवाभाव से पिंडदानियों के स्वागत के लिए लगे रहेंगे। गयाजी रबड़ डैम का निर्माण से पूरे शहर में जलस्तर बेहतर रहेगा, इसके अलावा प्रदूषण को भी काफी नियंत्रित करेगा। निरीक्षण के दौरान पार्षद ओमप्रकाश सिंह, धर्मेंद्र कुमार, नागमणि, सिटी मैनेजर सहित अन्य मौजूद थे।

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट 

Find Us on Facebook

Trending News