भ्रष्टाचार की सीमा! नीतीश जी नल जल की उम्र सिर्फ दो दिन, ध्वस्त हो गया नया बना जलमीनार

भ्रष्टाचार की सीमा! नीतीश जी नल जल की उम्र सिर्फ दो दिन, ध्वस्त हो गया नया बना जलमीनार

GAYA : ऐसा लगता है कि मौजूदा कार्यकाल में भी सीएम नीतीश का हर घर में शुद्ध पेयजल पहुंचाने का सपना पूरा नहीं होगा। कम से कम गया जिले की इन तस्वीरों को देखकर यह माना जा सकता है। जहां नल जल के लिए बना जल मीनार सिर्फ दो दिन में धराशायी हो गया। मामला सामने आने के बाद प्रशासन के बीच हड़कंप मच गया और आनन फानन में अध्यक्ष और सचिव के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। 

 मामला गया जिला के बाराचट्टी प्रखंड अन्तर्गत झांझ पंचायत के महादलित टोला ग्राम डहवा के वार्ड नम्बर 03 का है जहाँ 7 निश्चय के तहत हर घर नल का जल पहुचाने के लिए जलमीनार का निर्माण कराया गया था। जिसमें घटिया किस्म का सामग्री का इस्तेमाल किया गया। यानी गुणवत्ता हीन जो महज दो दिन में ही भरभरा कर गिर गया। पानी से भरे टंकी का भार सह नही पाया जलमीनार। मिली जानकारी के मुताबिक झांझ पंचायत की मुखिया निलू देवी खुद से करवा रही थी कार्य। लेकिन गुणवत्ताहीन के वजह से जलमीनार ध्वस्त हो गया। गौर तलब है कि यह मीनार 9 लाख 60 हजार रूपए की लागत की थी।ध्वस्त जलमिनार को पुनः निपापोती करने के फिराक में है पर लोगों का कहना है कि इसे पुनः निर्माण किया जाय।

आपको बता दें कि झांझ पंचायत का डहवा गावँ पूरे महादलित की बस्ती है इसलिए महादलित होने का खामियाजा भी ग्रामीणों को भुगतना पड़ता है, बड़ी घटना को अंजाम दे सकता था जलमीनार :- ऐसा हम इसलिए कह रहे है कि जलमीनार के पास छोटे छोटे बच्चे खेल रहे थे और अचानक पानी से भरी टंकी समेत जलमीनार भरभरा कर गिर पड़ा संयोग कहा जा सकता है कि बच्चे कुछ दूरी पर चले गए थे ग्रामीणों का कहना है कि हमलोग के घरों में मात्र दो दिन पानी पहुँचा उसके बाद गिर गया।

Find Us on Facebook

Trending News