भाकपा माले का किसान संघर्ष यात्रा 15 से 28 दिसंबर तक, 29 को राजभवन मार्च

भाकपा माले का किसान संघर्ष यात्रा 15 से 28 दिसंबर तक, 29 को राजभवन मार्च

PATNA: भाकपा माले ने किसानों के अधिकारों को लेकर आंदोलन तेज करने का ऐलान कर दिया है। राज्य सचिव कुणाल ने रविवार को कहा कि सरकार किसानों के चल रहे आंदोलन की समस्या को हल करने में अपनी विफलता से ध्यान हटाने के लिए तरह-तरह के हथकंडे अपना रही है।सरकार का मकसद भारतीय व विदेशी कारपोरेट को बढ़ावा देना और देश की खेती-किसानी को बर्बाद करना है।इसके लिए किसान आंदोलन को तेज किया जाएगा। 

उन्होंने बताया कि 29 दिसंबर को राजभवन मार्च का आयोजन किया जाएगा। इसके पहले 15 से 28 दिसंबर तक राज्य में किसान बचाओ-देश बचाओ अभियान के तहत किसान संघर्ष यात्रा निकाली जाएगी। नुक्कड़ सभाओं का आयोजन कर तीनों काले कृषि कानूनों व प्रस्तावित बिजली बिल 2020 की सच्चाई से किसानों को वाकिफ करवाया जाएगा। 

सभी गांवों में किसान पंचायत का आयोजन

भाकपा माले के राज्य सचिव कुणाल ने कहा कि हरेक गांव में किसान पंचायतों का भी आयोजन होगा और वहां से इन कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पारित किये जाएंगे।  हरेक पंचायत में मोदी-अमित शाह का पुतला दहन करने का भी निर्णय लिया गया है।  18 दिसंबर को भारतीय नृत्य कला मंदिर में पार्टी के पूर्व महासचिव विनोद मिश्र के स्मृति दिवस पर  संकल्प सभा का आयोजन किया जाएगा। जिसमें पार्टी के महासचिव दीपंकर भट्टाचार्य शामिल होंगे।

Find Us on Facebook

Trending News