CRIME NEWS : शर्मसार हो गया रिश्ता: नहीं काम आयी कातिल बेटे की चालाकी, हाथ में मिले सुबूत ने सुलझाया मामला, बेटे-बहू ने ही कर दिया मां-बाप का कत्ल

CRIME NEWS : शर्मसार हो गया रिश्ता: नहीं काम आयी कातिल बेटे की चालाकी, हाथ में मिले सुबूत ने सुलझाया मामला, बेटे-बहू ने ही कर दिया मां-बाप का कत्ल

पटना: पटना पुलिस ने रामकृष्ण नगर में रिटायर्ड फिजिकल टीचर ब्रजकिशोर प्रसाद व उनकी पत्नी लता सिन्हा की रहस्यमयी तरीके से हुई मौत को सुलझा लिया है है। इन दोनों की मौत कोरोना से नहीं हुई बल्कि इनका मर्डर किया गया था। 


इकलौते बेटे ने की कर दिया कत्ल

दरअसल इस पूरे मामले की पीछे संपत्ति विवाद बताया जा रहा है। आरोपी बेटे ने भी इस बात को स्वीकार किया है। दरअसल मामले के अनुसार हत्या के दिन रिटार्यड टीचर के एकलौते बेटे निप्पू ने पूरी प्लानिंग को पहले से ही कर के रखा था। उस दिन रिटार्यड टीचर के पास सुबह 6:30 बजे के करीब निप्पू सेकेंड फ्लोर से फर्स्ट फ्लोर पर आया। आते ही उसने पिता के कमरे के गेट को खटखटाया। पिता ने जैसे ही दरवाजे को खोला, निप्पू ने जोर से धक्का दिया जिससे उसके पिता जमीन पर जा गिरे और उनको काफी चोंटे आयी। इसी बात को लेकर दोनों के बीच झगड़ा भी हुआ। इसी बीच टीचर की बहू और पोते भी वहां आ गये। इन सभी ने पहले से ही फांसी के फंदे की तरह की रस्सी को बना रखा था। उसी से गला घोटकर पिता की हत्या कर दी। घटना की जांच पटना सदर के एएसपी संदीप सिंह ने खुद घटनास्थल पर जा के की थी। उन्होंने बेटे, बहु और पोते से पूछताछ की, फिर सारा मामला खुल गया। दरअसल कलयुगी बेटे ने कोरोना की दूसरी लहर का फायदा उठाने की नियत से पिता की हत्या करने की प्लानिंग की। मृतक इस वक्त दूध लाने के लिए हर रोज सुबह उठते थे। प्लानिंग के अनुसार निप्पू व परिवार ने इसी वक्त घटना को अंजाम देने के लिए चुना। 


ऊंगली ने खोल दिया राज

जांच में यह सामने आया कि मृतक व निप्पू के बीच झगड़ा हुआ था, उसी दरम्यान खून के धब्बे निप्पू, इसकी पत्नी संजू देवी और उसके बेटे अभिषेक की उंगलियों और नाखूनों में लग गए थे। इन लोगों ने पिता की हत्या के बाद ही मां कमल लता सिन्हा की भी उसी तरीके से हत्या कर दी तथा सभी रिश्तेदारों व पुलिस को भी इन्होंने कोरोना के नाम पर मौत की बात कह कर बरगलाने की काफी कोशिश की थी। दरअसल पुलिस को शुरुआती जांच में ही बुजुर्ग दंपत्ति की हत्या से जुड़े कुछ ठोस सबूत मिल गए थे। सबसे बड़ा सबूत निप्पू और उसके बेटे की हाथ के उंगलियों और नाखूनों में लगे खून के निशान थे। इसी आधार पर पुलिस ने अपनी जांच की। गुरुवार की देर रात तक में ही पूरा मामला साफ हो गया था। सख्ती से जब पुलिस ने पूछताछ की थी तो निप्पू और उसके परिवार ने सारे राज उगल दिए। सिटी एसपी ईस्ट जितेंद्र कुमार ने तीनों आरोपियों के गिरफ्तार किए जाने की पुष्टि की है। इस मामले में कमल लता सिन्हा के भतीजे सतीश के बयान पर रामकृष्णा नगर थाना में हत्या की एफआइआर दर्ज की गई है। पुलिस फांसी के फंदे के उस आकार को बरामद करने में लगी हुई है, जिससे बुजुर्ग दंपत्ति की हत्या की गई। पुलिसिया जांच में निप्पू ने हत्या के पीछे संपत्ति विवाद की बात मानी। उसने यह भी बताया कि उसे पिता की तरफ से घर के खर्च के लिए रुपये नहीं मिलते थे। घर में जो किरायेदार थे, उसे भी पिता ने हटा दिया था। केवल ऑटो चलाने से घर का खर्च नहीं निकल रहा था। इन सारी बातों से ही मामला बिगड़ गया और यह घटना घट गयी।


घर खर्च के लिए नहीं मिलते थे रुपए

पुलिस के सामने निप्पू ने संपत्ति विवाद की बात तो मानी ही, साथ ही यह भी बताया कि घर खर्च के लिए उसे पिता से रुपए नहीं मिलते थे। जो किराएदार उसने घर में रखे थे, उसे पिता ने हटा दिया था। ऑटो चलाने से घर का खर्च निकल नहीं रहा था। इन्हीं वजहों से मामला बिगड़ गया।


Find Us on Facebook

Trending News