गया के मनोकामना मंदिर में जुट रही भक्तों की भीड़, जानिए क्या है मंदिर का महत्व

गया के मनोकामना मंदिर में जुट रही भक्तों की भीड़, जानिए क्या है मंदिर का महत्व

GAYA : गया में फल्गु नदी के तट पर सीताकुंड से 500 मीटर की दूरी पर स्थित है मां चामुंडा मनोकामना मंदिर. माता मनोकामना के नाम से जाने जाने वाली या माता का मंदिर अपने आप में एक अनूठा मंदिर है, जहां श्रद्धालुओं की मनोकामना जरुर पूरी होती है. यहां पूजा अर्चना करने आए एक श्रद्धालु महिला ने बताया कि 40 दिनों तक लगातार दीपक जलाकर अपने मन की मनोकामना माता से कहने पर अवश्य पूरी हो जाती है. 

इसे भी पढ़े : पुलिस ने अवैध मिनी गन फैक्ट्री का किया भंडाफोड़, एक को किया गिरफ्तार

वहीं दूसरी और यहां के पुजारी मनोज पांडे ने बताया कि भगवान श्री राम, लक्ष्मण एवं सीता के साथ जब पिंडदान करने आए थे तो पहला पिंडदान मनोकामना मंदिर में ही किए थे. इसके बाद सीता कुंड के लिए प्रस्थान किए थे. यहाँ देवी की ऐसी महानता है कि जो भी भक्त सच्चे दिल से अपनी मनोकामना के लिए आस्थापूर्वक पूजा अर्चना करते हैं. माता उनकी मनोकामना अवश्य पूरी करती है. इसके मद्देनजर इस मंदिर में दुर्गापूजा के मौके पर लोगों की भारी भीड़ जुटती है. आज अष्टमी के मौके पर यहाँ भक्तों का तांता लगा है. 

इसे भी पढ़े : महिला के साथ तीन लोगों ने किया सामूहिक दुष्कर्म, पुलिस ने किया गिरफ्तार

उधर अष्टमी के मौके पर माड़नपुर स्थित भस्म मुकुट पर्वत पर अवस्थित माँ मंगला गौरी मंदिर शक्तिपीठ धाम मंदिर में भी भक्तों की भीड़ जुट रही है. इसे पालन पीठ भी कहते हैं. नवरात्र में महाअष्टमी के दिन निशा पूजा का विशेष महत्व है. इस मौके पर मंदिर में 56 प्रकार के भोग लगाए गए हैं. नवरात्र में प्रतिदिन सिंगार सुबह, दोपहर, शाम होती है. श्रद्धालुओं के लिए महाष्टमी के सुबह 3  बजे से ही दर्शन के लिए पट खोल दिए गए हैं.

मंगला गौरी मन्दिर कि मान्यता है कि मां सती का गया के भस्मकूट पर्वत पर स्तन गिरा था जिस कारण यह शक्तिपीठ या पालनपीठ के रूप में प्रसिद्ध है. पौराणिक मान्यता है की सती के मायके में हो रहे यज्ञ में भगवान भोले शंकर को निमंत्रण नही मिला था.  इस अपमान को सती सहन नहीं कर सकी और यज्ञ के हवन कुंड में कूद पड़ी. भगवान भोले शंकर जब अपनी पत्नी सती का जला हुआ शरीर लेकर तीनों लोकों में उद्विग्न होकर घूम रहे थे तो सृष्टि को बचाने के लिए भगवान विष्णु ने मां सती के शरीर को अपने सुदर्शन चक्र से काट दिया था. इसके बाद 51 स्थानों पर सती माता के शरीर के अंग गिरे है. आज उन जगहों पर शक्तिपीठ मन्दिर स्थापित है.

गया से मनोज कुमार की रिपोर्ट  

Find Us on Facebook

Trending News