सत्ताधारी दलों में भर्ती अभियान....JDU के पाले में गए वर्तमान MLA तो BJP को मिले भूतपूर्व माननीय

सत्ताधारी दलों में भर्ती अभियान....JDU के पाले में गए वर्तमान MLA तो BJP को मिले भूतपूर्व माननीय

PATNA: बिहार की सत्ताधारी पार्टियों में भर्ती अभियान की शुरूआत हो गई है। जेडीयू की तरफ से जहां वर्तमान जन प्रतिनिधियों को पार्टी में शामिल कराया जा रहा है वहीं, सहयोगी भाजपा भूतपूर्व माननीयों को दल में शामिल कराने पर तुली है. जेडीयू ने जहां तीन विधायकों पर डोरे डाले हैं। इसमें उसे काफी हद तक सफलता भी मिली। एक विधायक को पार्टी में शामिल करा लिया जबकि 2 विधायकों से समर्थन ले लिया है। 

भाजपा की नजर भूतपूर्व माननीयों पर 

अब सहयोगी भाजपा की बात कर लेते हैं। पहले खबर थी कि लोजपा के एक मात्र विधायक बीजेपी के पाले में जा सकते हैं। लेकिन लोजपा विधायक राजकुमार सिंह की नजदीकियां जेडीयू से बढ़ी हुई हैं। लिहाजा बीजेपी अब पूर्व माननीयों पर दांव लगा रही है। 27 जनवरी को बिहार भाजपा की तरफ से मिलन समारोह का आयोजन किया गया है।बुधवार के मिलन समारोह में कई भूतपूर्व माननीय बड़े नेताओं की मौजूदगी में भाजपा का दामन थामेंगे। जानकारी के अनुसार बीजेपी प्रदेश कार्यालय में आयोजित मिलन समारोह में प्रभारी भूपेन्द्र यादव,प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल व गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय मौजूद रहेंगे। इन नेताओं की मौजूदगी में सीतामढ़ी के पूर्व सांसद और राजद से निकाले गए सीताराम यादव और उसी जिले की पूर्व विधायक नगीना देवी पार्टी में शामिल होंगी। इसके अलावे कई अन्य नेता भी भाजपा का दामन थामेंगे। बिहार बीजेपी के दिग्गज नेता इन भूतपूर्व माननीयों को पार्टी में शामिल करायेंगे।

जेडीयू का वर्तमान पर दांव

बता दें, बिहार विधान सभा चुनाव परिणाम के बाद जेडीयू छोटे भाई की भूमिका में आ गई है। बीजेपी को जहां 74 सीटें आई वहीं जेडीयू महज 43 सीटों पर सिमट गई । जेडीयू नेता यह मानकर चल रहे कि सहयोगी दल के भीतरघात और लोजपा की वजह से उसे नुकसान उठाना पड़ा है। लिहाजा जेडीयू नेतृत्व ने सबसे पहले निर्दलीय विधायक सुमित सिंह को अपने पाले में किया। इसके बाद बसपा के एक मात्र विधायक जमां खान को कुछ दिन पहले पार्टी में शामिल करा लिया। अब जेडीयू नेतृत्व की नजर लोजपा के एक मात्र विधायक राजकुमार सिंह पर है। सोमवार को सब कुछ साफ हो गया जब लोजपा विधायक मंत्री अशोक चौधरी के आवास पहुंच गए। हालांकि लोजपा विधायक जेडीयू में शामिल होने से इनकार कर रहे हैं लेकिन वे यह भी कह रहे कि वे एनडीए के साथ हैं. इतना ही नहीं जेडीयू नेतृत्व की नजर कांग्रेस विधायकों पर भी है। अब देखना है कि सहयोगी दलों की तरफ से शुरू हुए भर्ती अभियान में आने वाले दिनों में कौन-कौन नेता शामिल होते हैं. 

Find Us on Facebook

Trending News