डैमेज कंट्रोल के लिए बीजेपी में शामिल कराए गए पूर्व मंत्री महाचंद्र सिंह को चुनाव प्रचार के लिए खास इलाकों  में लगाया गया, डॉ सीपी ठाकुर भी करेंगे मदद

डैमेज कंट्रोल के लिए बीजेपी में शामिल कराए गए पूर्व मंत्री महाचंद्र सिंह को चुनाव प्रचार के लिए खास इलाकों  में लगाया गया, डॉ सीपी ठाकुर भी करेंगे मदद

Patna- पहले चरण के चुनाव में मिले इनपुट से चिंतित बिहार बीजेपी ने आनन फानन में 13 अप्रैल को पूर्व मंत्री महाचंद्र प्रसाद सिंह कांग्रेस नेता विनोद शर्मा को पार्टी में शामिल कराया था. जॉइनिंग कितनी महत्वपूर्ण थी उसका अंदाजा इसी से होता है कि पार्टी के वरिष्ठ नेता दिल्ली से स्पेशल विमान से पटना आये थे.

अब पार्टी ने उन्हें धुआंधार चुनाव प्रचार में झोंक दिया है. इन नेताओं को उन इलाकों पर फोकस करने को कहा गया है जहां उनकी बिरादरी का प्रभाव है या जहां से उनकी बिरादरी के उम्मीदवार मैदान में खड़े हैं. डैमेज कंट्रोल के लिये भाजपा में लाये गए पूर्व मंत्री महाचंद्र सिंह को आज बेतिया, मोतिहारी और महाराजगंज में चुनाव प्रचार में लगाया है. सिर्फ महाचंद्र सिंह ही नहीं बल्कि पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर भी आज भूमिहार बहुल वोटरों वाले संसदीय क्षेत्र में चुनाव प्रचार करेंगे.

दरअसल आज पटना से एक ही हेलीकॉप्टर पर केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान, नंदकिशोर यादव, सी पी ठाकुर और महाचंद्र सिंह बेतिया, मोतिहारी और महाराज गंज क्षेत्र में जनसभा करेंगे. मोतिहारी से आरएलएसपी ने भूमिहार कैंडिडेट को मैदान में उतारा है. लिहाजा बीजेपी ने वहां खासतौर पर सीपी ठाकुर और 4 दिन पहले बीजेपी ज्वाइन किए महाचंद्र सिंह की सभा आयोजित करवाई है. ताकि भूमिहार वोटरों को जिसे बीजेपी की परंपरागत वोट मानी जाती है उसे टूटने से बचाया जा सके. क्योंकि जो खबरें आ रही हैं वह बीजेपी की पॉजिटिव नहीं है. लिहाजा अपने आधार वोटरों को बचाने के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री सीपी ठाकुर और महाचंद्र सिंह से मोतिहारी में सभा करवाई जा रही है.

वही हाल महाराजगंज का भी है महाराजगंज में भी बीजेपी के विधान पार्षद सच्चिदानंद राय इसी बिरादरी से आते हैं उन्होंने भी बगावत कर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया है. उनके ऐलान के बाद बीजेपी काफी चिंतित हो गई है. लिहाजा महाचंद्र सिंह और सीपी ठाकुर को महाराजगंज में भी उतरा है और आज दोनों नेता वहां भी जनसभा को संबोधित करेंगे.

दरअसल पहले चरण के चुनाव के बाद बीजेपी थोड़ी परेशान हो गयी है. जो इनपुट मिले थे वो यह कि बीजेपी के मजबूत आधार भूमिहार वोटर पार्टी की नीतियों से काफी नाराज हैं और उस समाज के बड़ी संख्या में वोटर या तो निष्क्रिय हो गए हैं या विरोधियों की मदद कर रहे. चिंतित बीजेपी ने आनन फानन में इस बिरदारी के कई नेताओं को पार्टी जॉइन कराकर डैमेज कंट्रोल की कोशिश की है. बीजेपी नेता अब तो खुल कर यह स्वीकार कर रहे हैं कि बीजेपी के परंपरागत वोटरों में नाराजगी है. महाचंद्र सिंह के मिलन समारोह में भी नेताओं ने इशारों-इशारों में कहा था कि ये मेरे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं. 

Find Us on Facebook

Trending News