डीएओ का विरोध खाद व्यवसायी को पड़ा महंगा, सरकारी काम में बाधा डालने का मामला दर्ज

डीएओ का विरोध खाद व्यवसायी को पड़ा महंगा, सरकारी काम में बाधा डालने का मामला दर्ज

PURNEA : जिला कृषि पदाधिकारी के साथ हुए दुर्व्यवहार के मामले में नया मोड़ आ गया है. बता दें कि नए जिला कृषि पदाधिकारी शंकर झा ने पदभार ग्रहण करने के बाद जिले के थोक एवं खुदरा खाद बीज एवं कीटनाशी विक्रेताओं की बैठक बुलाई. बैठक में जिला कृषि पदाधिकारी ने प्रस्ताव रखा कि जिन्हें जिला कृषि पदाधिकारी के कार्यालय से लाइसेंस निर्गत हुआ है. वे अपना खाद, बीज एवं कीटनाशक जिले में ही बेंचे. क्योंकि जिस अनुज्ञप्तिधारी को लाइसेंस जिला कृषि पदाधिकारी कार्यालय द्वारा निर्गत किया गया है. वे खाद बीज एवं कीटनाशी सिर्फ जिले के किसानों को ही बेच सकते है. 

उक्त बातें सुनने के बाद खाद विक्रेता निरंजन कुशवाहा ने इसका विरोध करना उसी वक्त से शुरू कर दिया. निरंजन कुशवाहा ने जिला कृषि पदाधिकारी को कहा कि आज तक कभी ऐसा नहीं हुआ है. हमलोग इस बात को नही मानेंगे. जबकि जिला कृषि पदाधिकारी ने कहा कि जो सरकार का नियम है. उसी में सभी लाइसेंसी अनुज्ञप्तिधारी को काम करना पड़ेगा. सभी को इस जिले के किसानों को खाद बीज एवं कीटनाशी बेचना होगा. इससे नाराज निरंजन कुशवाहा ने सरकार के इस आदेश का विरोध कर और विक्रेताओं को बरगलाना शुरू कर दिया.

इसके बाद निरंजन कुशवाहा ने कुछ थोक एवं खुदरा व्यापारियों को साथ मिलाकर जिला कृषि पदाधिकारी के खिलाफ बिगुल फूंक दिया. यहाँ तक कि निरंजन कुशवाहा के नेतृत्व में जिला कृषि पदाधिकारी का पुतला भी फूंका गया. वहीँ जिला कृषि पदाधिकारी के साथ दुर्व्यवहार कर सरकारी काम में बाधा डालते हुए कुछ खुदरा एवं थोक विक्रेताओं को लेकर हड़ताल पर चले गये.

बहरहाल जिला कृषि पदाधिकारी ने सरकारी काम में बाधा डालने के मामले पर निरंजन कुशवाहा सहित सात लोगों पर नामजद एफआईआर दर्ज कराया है. वहीँ निरंजन कुशवाहा खुलेआम घूम घूम कर तरह-तरह के हथकंडे अपनाकर दुकानदारों का समर्थन जुटाने में लगे है.

पूर्णिया से श्याम नंदन की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News