संदेहास्पद स्थिति में विचाराधीन कैदी की मौत, परिजन जेल प्रशासन पर लगा रहे गंभीर आरोप

संदेहास्पद स्थिति में विचाराधीन कैदी की मौत, परिजन जेल प्रशासन पर लगा रहे गंभीर आरोप

MUZAFFARPUR : मुजफ्फरपुर जिले के केंद्रीय कारा की घटना है। जहां पर एक विचाराधीन कैदी की इलाज के दौरान मौत हो जाने के बाद बवाल मच गया। परिजनों का आरोप है कि जेल प्रशासन ने जानबूझकर समय पर कंमाड नहीं दिया। जिस कारण से कैदी को सही इलाज के लिए पीएमसीएच नहीं ले जाया जा सका और एसकेएमसीएच में ही उन्होंने तड़प तड़प कर जान दे दी।

 बताते चलें कि आज देर शाम मुजफ्फरपुर सेंट्रल जेल के एक इलाजरत कैदी कि मौत हो गई । वो बीते मंगलवार को नाजुक स्थिति में SKMCH अस्पताल में भर्ती हुआ था । कल शाम उसकी नाजुक स्थिती को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे पीएमसीएच रेफर कर दिया  था। लेकिन जेल से कमान न आने के कारण उसे पटना नहीं ले जाया गया । जिस कारण आज देर शाम उसकी SKMCH में मौत हो गई ।मृत कैदी कि पहचान ज़िले के सरैया थाना क्षेत्र के गंगोलिया के 26 वर्षीय संजीव दास के रूप में हुई है । 21 जुलाई 2022 को मर्डर केस में पुलिस ने मृतक को जेल भेजा था।

एक दिन पहले जेल से मिली मंजूरी, लेकिन अस्पताल नहीं पहुंची

पूरे मामले में अभी तक जेल प्रशासन की तरफ से कोई भी बयान जारी नहीं किया गया है लेकिन परिजनों का आरोप गंभीर है परिजनों ने कहा कि जब 1 दिन पूर्व ही कमान कट गया था तो फिर मरीज को अविलंब पटना जाने की व्यवस्था क्यों नहीं की गई। आखिर क्यों विचाराधीन कैदियों के अनदेखी की जाती है , क्यों इलाजरत कैदी मरीजों के इलाज में लापरवाही बरती जाती है। हालांकि परिजनों का यह सवाल अपने आप में एक यक्ष प्रश्न है और जेल प्रशासन के मुंह पर करारा थप्पड़ भी।

Find Us on Facebook

Trending News