दिल्ली हिंसा के बाद किसान संगठन में आई दरार, 32 में दो संगठनों ने खत्म किया आंदोलन

दिल्ली हिंसा के बाद किसान संगठन में आई दरार, 32 में दो संगठनों ने खत्म किया आंदोलन

दिल्ली हिंसा के बाद अब किसान संगठनों में दो फाड़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है। किसान नेता वीएम सिंह ने घोषणा की है कि वह अपना आंदोलन यहीं पर खत्म कर रहे हैं। उन्होंने एक प्रेस वार्ता में कहा कि हम इस घटना का विरोध करते हैं। साथ ही किसान आंदोलन को खत्म कर रहे हैं। इस दौरान उन्होंने किसान नेता राकेश टिकैत पर बड़े आरोप लगाते हुए कहा है कि वह दूसरी रूट पर चलना चाह रहे थे, उन्हें इस पूरी घटना की जिम्मेदारी लेनी होगी। बता दें दिल्ली में कल हुई हिंसा मामले में पुलिस ने वीएम सिंह के खिलाफ भी अपराध दर्ज किया है। वहीं भानु गुट ने भी आंदोलन से अलग होने का फैसला लिया है।

पिछले 63 दिनों से चल रहे किसान आंदोलन में पहली बड़ी फूट हुआ है। आंदोलन में शामिल राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन ने इस आंदोलन से किनारा करते हुए इसे खत्म करने की घोषणा की है। संघ के नेता वीएम सिंह ने कहा दिल्ली में कल जो हुआ, उसे सही नहीं कहा जा सकता है। हम मुद्दों पर आंदोलन करने आए थे। हमारा मकसद किसी को पिटवाना नहीं था. लेकिन दिल्ली में जो कुछ हुआ, उसे देखने के बाद अब आंदोलन का महत्व खत्म हो गया है। वहीं भानू गुट ने भी आंदोलन को खत्म करने का फैसला लिया है

दोषियों पर हो कार्रवाई

वीएम सिंह ने कहा कि दिल्ली में हुई हिंसा में जो लोग भी दोषी हों, हम उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग करते हैं। इस दौरान उन्होंने किसान नेता राकेश टिकैत पर निशाना साधते हुए कहा कि वह किसान नेता हैं, उन्हें इस पूरी घटना की जिम्मेदारी लेनी चाहिए। बता दें कि राकेश टिकैत ने दिल्ली हिंसा से पल्ला झाड़ते हुए पूरी घटना के लिए दिल्ली पुलिस को जिम्मेदार ठहराया था। वहीं योगेंद्र यादव ने भी दिल्ली हिंसा की निंदा की थी और लाल किले पर हुए हमले को लेकर उपद्रवियों पर कार्रवाई की मांग की थी. 

Find Us on Facebook

Trending News