दो दशक से बंद पडे चनपटिया चीनी मिल को चालू करने की मांग तेज, जनप्रतिनिधियों पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप

 दो दशक से बंद पडे चनपटिया चीनी मिल को चालू करने की मांग तेज, जनप्रतिनिधियों पर लगाया वादाखिलाफी का आरोप

BETIYA : प. चम्पारण के दो दशक से बंद पडे चनपटिया चीनी मिल को चालू करने की मांग तेज हो गई है। जिसको लेकर शनिवार को दर्जनों की संख्या में स्थानीय लोग मिल के गेट के पास पहुंच कर अपनी नाराजगी जाहिर करते हुए प्रेस वार्ता की। लोगों की मांग थी कि यूपी सरकार ने जिस तरह बंद मिल को फिर से शुरू कराया, उसी तरह बिहार सरकार भी मिल के लिए पहल करे। 

इस दौरान लिये मिल गेट पर पहुंचे लोगों ने जनप्रतिनिधियों पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया। स्थानीय  राजकिशोर प्रसाद ने बताया कि सभी चुनाव मे आते है वादे करते है और चुनाव समाप्त होते ही भूल जाते है । विधानसभा चुनाव के समय बिहार के मुख्यमंत्री नीतिश कुमार भी चुनाव प्रचार के दौरान इसे चालू कराने का वादा कर गये पर दो साल हो गया चालू करने के दिशा मे कोई पहल अभी तक नही हुआ । हालाकि बिहार भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ संजय जयसवाल ने इस मिल को चालू करने के लिये लोकसभा मे अपनी बात रख चुके है, वहीं पीएमओ कार्यालय मे 6दिसम्बर को ज्ञापन भी देने की बात कही गई।  

इलाहाबाद हाईकोर्ट में चल रहा है मिल का केस

जबकी गोरखपुर के पिपराईच चीनी मिल जो बंद पडा था वह यूपी मे योगी की सरकार बनते ही चार सौ करोड रुपया लगा कर चालू कर दिया गया।उन्होने इसे चालू करने के लिये कमिटी बनाने की मांग सरकार से की ,साथ ही इलाहाबाद हाईकोर्ट मे जो चनपटिया चीनी मिल का केस है उसे सुप्रीम कोर्ट मे मंगाकर मामले को निष्पादन करने और कमिटी बना इसे जल्द चालू करने की मांग किये। 


Find Us on Facebook

Trending News