देश में फिर से महंगाई की मार, थोक मंहगाई दर बढ़कर हुई 0.16 फीसदी

देश में फिर से महंगाई की मार, थोक मंहगाई दर बढ़कर हुई 0.16 फीसदी

New Delhi : देश में एक बार फिर से महंगाई बढ़ गयी है. वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय ने आज थोक महंगाई दर के आंकड़े जारी किये. इन आंकड़ों के मुताबिक अगस्त महीने में थोक महंगाई दर में बेतहाशा वृद्धि हुई है. वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के मुताबिक थोक मूल्य सूचकांक पर आधारित मुद्रास्फीति की वार्षिक दर अगस्त में बढ़कर 0.16% हो गई है जो कि जुलाई में शून्य से 0.58 फीसदी तक थी. पिछले साल की बात करें तो अगस्त महीने में  मुद्रास्फीति की वार्षिक दर 1.17 फीसदी थी . 

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय की तरफ से बताया गया है कि अगस्त महीने में खाद्य वस्तुओं की मुद्रास्फीति दर 3.84 प्रतिशत रही जबकि आलू की कीमतों में वृद्धि की दर 82.93 प्रतिशत थी. अगस्त में सब्जियों में मुद्रास्फीति 7.03 प्रतिशत रही. अगस्त के महीने ईंधन और बिजली की महंगाई दर 9.68 प्रतिशत रही, जबकि जुलाई में यह 9.84 प्रतिशत थी. हालांकि अगस्त महीन में निर्मित वस्तुओं में मुद्रास्फीति महंगाई दर में 1.27 प्रतिशत की गिरावट के साथ जुलाई में 0.51 प्रतिशत रही. अगस्त में खाद्य पदार्थों, सब्जी और फल, चमड़े के उत्पाद, लकड़ी और लकड़ी के उत्पाद, बिजली के इपकरण और परिवहण उपकरण महंगे हो गये हैं. अगस्त में खाद्य पदार्थों में मुद्रास्फीति 3.84 फीसदी रही. इस दौरान आलू की कीमतों में 82.93 फीसदी का उछाल हुआ. सब्जियों की महंगाई दर इस समय 7.03 फीसदी रही.

सरकार ने कहा कि थोक मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति चार महीने तक निगेटिव बनी रही थी लेकिन अगस्त में इसमें बढ़ोतरी हुई है. आपको बता दें कि भारतीय बाजार में कुछ समय के लिए बाजारों में वस्तुओं के दामों में उतार चढ़ाव सामान्य तौर पर मंहगाई दर को दर्शाती है. बीते महीने ही अपनी नीति समीक्षा बैठक में भारतीय रिजर्व बैंक ने ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया था. साथ ही आरबीआई ने कहा था कि इससे मुद्रास्फीति पर उल्टा असर होगा. बैंक ने अक्टूबर-मार्च की अवधि में मुद्रास्फीति को बनाए रखने का अनुमान लगाया. आपको बता दें कि सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति के आंकड़े हर महीने की 14 तारीख को जारी किए जाते हैं.

Find Us on Facebook

Trending News