पुलिसकर्मियों की शहादत पर बोले डीजीपी, नक्सलियों से लिया जायेगा बदला

पुलिसकर्मियों की शहादत पर बोले डीजीपी, नक्सलियों से लिया जायेगा बदला

JAMSHEDPUR : सरायकेला जिले के तिरुलडीह थाना क्षेत्र के कुकड़ू में हुए नक्सली हमले में मारे गए पांचों जवान को आज राजकीय सम्मान के साथ श्रद्धांजलि दी गई. इस मौके पर पुलिस महानिदेशक कमल नयन चौबे ने शहीद के परिजनों को हरसंभव सहयोग देने का भरोसा दिलाया. साथ ही कहा कि पुलिसकर्मियों का शहादत बेकार नहीं जाएगा. उन्होंने कहा कि सरायकेला की घटना को लेकर प्रशासन और सरकार पूरी तरह गंभीर है. नक्सलियों से इसका बदला लिया जाएगा. वहीं डीजीपी ने कहा कि झारखंड में नक्सलवाद देश के अन्य नक्सल प्रभावित राज्यों की तुलना में कम हुआ है. उसी का परिणाम है कि हताशा में नक्सली ऐसी हरकतें कर रहे हैं. 

उन्होंने संकेत दिया है कि जैसे अधिकारियों की जरूरत जिस जिलों में होगी. वहाँ वैसे अधिकारियों की तैनाती की जाएगी. डीजीपी ने कहा की शहीद के परिजनों को सरकार के तरफ से मिलने वाली सहायता राशि दी जाएगी. साथ ही शहीद के परिजनों को जिला पुलिस कप्तान हरसंभव सहायता करेंगे. वहीं डीजीपी ने नक्सलियों के खिलाफ अभियान तेज करने के संकेत दिए हैं और इसको लेकर रणनीति बनाने में जुट गए हैं. उन्होंने खुफिया तंत्र को मजबूत बताया और कहा कि हम आगे अपने तंत्र को और मजबूत करने में जुटे हैं. सांसद संजय सेठ ने सरकार को नक्सलियों के खिलाफ गम्भीर बताया. साथ ही विधानसभा चुनाव से ठीक पहले इस तरह की घटनाओं पर सवाल भी उठाया है.

बताते चलें कि तिरुलडीह में शुक्रवार को नक्सलियों ने गश्ती पर निकले पुलिस के पांच जवानों को कुकड़ू हाट बाजार में मौत के घाट उतार दिया था. इनमें तीन आरक्षी और दो सहायक अवर निरीक्षक शामिल थे. इनमें एक बिहार के भोजपुर के रहने वाले थे. दिवंगत सहायक अवर निरीक्षक का नाम गोवर्द्धन पासवान था, जो एक अगस्त 1998 को पुलिस बल में शामिल हुए थे. दूसरे सहायक अवर निरीक्षक झारखंड के देवघर जिला के रहने वाले थे. उनका नाम मनोधन हांसदा था और वह 25 जनवरी 2005 को पुलिस बल में शामिल हुए थे. फिलहाल सरायकेला के तिरुलडीह थाना में पदस्थापित थे. शहीद हुए तीन आरक्षियों में दो पश्चिमी सिंहभूम और एक रांची के रहने वाले थे. इनके नाम डिबरू पुरती, युधिष्ठिर मलुवा और धनेश्वर महतो हैं. इनमें पुरती ने 29 जनवरी 2019, युधिष्ठिर मलुवा और धनेश्वर महतो ने 24 सितंबर 2009 को पुलिस बल में योगदान दिया था. धनेश्वर महतो रांची के सोनाहातू थाना क्षेत्र के डिबडीह गांव के रहने वाले थे.

श्रद्धांजलि सभा में पुलिस महानिदेशक कमल नयन चौबे के साथ राज्य पुलिस के तमाम वरीय पुलिस अधिकारी भी शामिल हुए. इसके साथ ही श्रद्धांजलि सभा में एडीजी मुरारी लाल मीणा , डीआईजी एसटीएफ साकेत कुमार, सीआरपीएफ कमांडेंट हरपाल सिंह, रांची सांसद संजय सेठ के अलावा जिले के एसपीडीसी समेत तमाम आला अधिकारी भी मौजूद थे. 

जमशेदपुर से संतोष कुमार की रिपोर्ट  

Find Us on Facebook

Trending News