प्रदेश में अवैध रुप से शराब बिक्री पर बोले डीजीपी, कहा-कानून बनने से अपराध पूरी तरह नहीं हो जाता है खत्म

PATNA : कानून बनने या उसके डर से कोई भी अपराध पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है। इतना जरूर है कि कानून से किसी भी तरह के अपराध में कमी जरुर आती है। यह कहना है प्रदेश के पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय का। 

आज एक कार्यक्रम के दौरान मीडिया द्वारा प्रदेश में शराबबंदी लागू होने और कड़े कानून के बावजूद इसकी अवैध बिक्री को लेकर पूछे गये सवाल पर डीजीपी ने कहा कि किसी भी अपराध के लिए कानून होने और सजा का प्रावधान होने के बावजूद वह पूरी तरह से खत्म नहीं हो जाता है। 

डीजीपी ने कहा कि हत्या जैसे जघन्य अपराध के लिए उम्र कैद और यहां तक की फांसी की सजा का प्रावधान है। अपराधी अपना पूरा जीवन जेल के अंदर गुजार देते है, बावजूद इसके हत्याएं होती है। यही बात शराबबंदी पर भी लागू होती है। 

गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि शराबबंदी के बावजूद इसकी अवैध बिक्री हो रही है, लेकिन कितना? उन्होंने कहा कि शराबबंदी से पहले शाम के वक्त स़ड़कों पर नशे में खुलेआम गुंडागर्दी होती थी, जिसके मैं स्वंय देख चुका हूं। लेकिन आज स्थिति क्या है वो आपके सामने है। 

डीजीपी ने कहा कि कानून को तोड़ने वाले 2-4 प्रतिशत लोग ही होते है। वैसे लोग सिस्टम के अंदर और बाहर दोनों जगह होते है, और उनके लिए ही कानून होता है। 

कुंदन की रिपोर्ट

Find Us on Facebook

Trending News