मैच के अंतिम चार गेंदों में धोनी ने पलटा पासा, आईपीएल में पहली जीत के करीब पहुंची मुंबई इंडियंस फिर हुई निराश, ईशान किशन फिर फेल

मैच के अंतिम चार गेंदों में धोनी ने पलटा पासा, आईपीएल में पहली जीत के करीब पहुंची मुंबई इंडियंस फिर हुई निराश, ईशान किशन फिर फेल

PATNA : महेंद्र सिंह धोनी के फैंस के लिए गुरुवार का दिन बेहद खास रहा। आईपीएल में पांच बार के विजेता मुंबई इंडियंस के सामने धोनी का वही पुराना अवतार देखने के लिए मिला, जिसके लिए वह जाने जाते हैं। एक शानदार फिनीशर। मैच के अंतिम ओवर में बचे हुए चार गेंदों में सीएसके को जीत के लिए 16 रन चाहिए थे। यहां धोनी ने कमाल किया और मैच अपनी टीम की झोली में डाल दिया। वहीं मैच में लगभग जीत के करीब पहुंच चुकी मुंबई इंडियंस को लगातार सातवीं हार का सामना करना पड़ा। मैच को सीएसके ने तीन विकेट से जीत लिया। 

आखिरी ओवर का रोमांच

चेन्नई सुपर किंग्स को आखिरी ओवर में 17 रनों की जरूरत थी, मुंबई की ओर से जयदेव उनादकट ने ये ओवर डाला. पहली बॉल पर ही उनादकट ने प्रिटोरियस को आउट कर दिया, लेकिन एमएस धोनी का कमाल एक बार फिर देखने को मिला और अपनी टीम को उन्होंने जीत दिला दी. अंतिम ओवर में चार गेंद पर चेन्नई को 16 रन की दरकार थी। जिसमें धोनी 6,4,2,4 रन बनाकर हासिल कर लिया।

तीन ओवर में थी 42 रन की जरुरत

सीएसके को आखिरी 3 ओवर में 42 रनों की जरूरत थी, ऐसे में जब एमएस धोनी क्रीज़ पर आए तो उन्होंने पहले ड्वेन प्रिटोरियस के साथ पार्टनरशिप बनाई और आखिरी तक क्रीज़ पर टिके रहे. सीएसके को आखिरी ओवर में 17 रन चाहिए थे और एमएस धोनी के रहते हुए वह बन गए

निराशा एमआई पलटन

मुंबई इंडियंस के लिए इस मैच में शुरुआत यादगार नहीं रही. पहले ही ओवर में मुकेश चौधरी की धारदार गेंदबाज़ी के आगे मुंबई के रोहित शर्मा, ईशान किशन फेल साबित हुए और बिना खाता खोले हुए आउट हो गए. उसके बाद डेवाल्ड ब्रेविस भी आते ही चलते बने. मुंबई इंडियंस के लिए सूर्यकुमार यादव ने 32, डेब्यू करने वाले ऋतिक ने 25 रन बनाए. इंटरनेशनल क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद अपना पहला आईपीएल मैच खेल रहे कायरन पोलार्ड ने शुरुआत में कुछ रंग दिखाए, लेकिन 14 रन बनाकर ही आउट हो गए.  मुंबई के लिए कमाल 19 साल के तिलक वर्मा ने किया, जिन्होंने शानदार फिफ्टी जड़ी और अपनी टीम को 150 के स्कोर के पार पहुंचाया. तिलक वर्मा ने 51 रनों की पारी खेली, जिसमें 3 चौके और 2 छक्के जड़े। इस तरह मुंबई ने 155 रन का स्कोर खड़ा किया।

फिर फेल हुआ सीएसके का ऊपरी क्रम

चेन्नई सुपर किंग्स को उम्मीद थी कि वह इस टारगेट को आसानी से हासिल कर लेगी, लेकिन पहली ही बॉल पर ऋतुराज गायकवाड़ आउट हो गए. उनके कुछ देर बाद भी मिचेल सैंटनर चलते बने. ऐसे में सीएसके के लिए सीनियर प्लेयर रॉबिन उथप्पा ने कमान संभाली, लेकिन दूसरी छोर से लगातार विकेट गिरते गए. एक तरफ विकेट गिर रहे थे, तो दूसरी ओर टारगेट बढ़ता जा रहा है. ऐसा लग रहा था कि मैच में इस बार चेन्नई की हार निश्चित है, लेकिन धोनी ने साबित किया कि उन्होंने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संयास लिया है, लेकिन दुनिया के बेस्ट फिनीशर आज भी वही हैं। 


Find Us on Facebook

Trending News